लाइव टीवी

आकाशगंगा में मिला नया ब्लैक होल, सूरज से 70 गुना बड़ा है आकार

News18Hindi
Updated: November 28, 2019, 2:52 PM IST
आकाशगंगा में मिला नया ब्लैक होल, सूरज से 70 गुना बड़ा है आकार
अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने जिस ब्लैक होल की खोज की है, उसे LB-1 नाम दिया गया है.

साइंस जनरल 'नेचर' की खबर के मुताबिक, अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने जिस ब्लैक होल (Black Hole) की खोज की है, उसे LB-1 नाम दिया गया है. पृथ्वी से LB-1 की दूरी 15 हजार प्रकाश वर्ष है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2019, 2:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने आकाशगंगा में एक बड़े ब्लैक होल (Black Hole) की खोज की है. इसका आकार सूरज से करीब 70 गुना बड़ा बताया जा रहा है. बता दें कि सूरज पृथ्वी से 13,00000 गुना बड़ा है. जितना हमारे सौर मंडल का कुल वजन है, उसका 99.8% अकेले सूरज का है. बता दें कि ब्लैक होल अंतरिक्ष का वो हिस्सा है, जहां भौतिक विज्ञान का कोई नियम काम नहीं करता.

साइंस जर्नल 'नेचर' की खबर के मुताबिक, अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने जिस ब्लैक होल की खोज की है, उसे LB-1 नाम दिया गया है. पृथ्वी से LB-1 की दूरी 15 हजार प्रकाश वर्ष है. नेशनल एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जर्वेटरी ऑफ चाइना के प्रोफेसर ली जीफेंग बताते हैं, 'आकाश गंगा में वैसे तो अनुमानित 100 मिलियन छोटे ब्लैक होल हो सकते हैं, लेकिन LB-1 जैसे आकार का ब्लैक होल थोड़ा चौंकाने वाला है.'

ली जीफेंग आगे बताते हैं, 'LB-1 जैसे इतने बडे़ ब्लैक होल हमारी गैलेक्सी में नहीं पाए जाते हैं. अभी तक ज्यादातर छोटे आकार के ही ब्लैक होल मिले हैं.' LB-1 की खोज अंतराराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम ने चीनी टेलिस्कोप LAMOST से की है.


यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के खगोलविद् और ब्लैक होल के विशेषज्ञ पॉल मैक्नमारा ने बताया कि पिछले 50 वर्ष से ज्यादा समय से वैज्ञानिकों ने देखा है कि हमारी आकाशगंगा के केंद्र में कुछ बहुत चमकीला है. पॉल ने बताया कि ब्लैक होल में इतना मजबूत गुरुत्वाकर्षण है कि तारे 20 वर्ष में इसकी परिक्रमा कर पाते हैं. वहीं, हमारी सौर प्रणाली में आकाशगंगा की परिक्रमा में 23 करोड़ साल लगते हैं.

black hole n
सूरज से करीब एक लाख गुना बड़े ब्लैक होल एक या दो ही हैं.


वैज्ञानिकों ने साधारण तौर पर दो तरह के ब्लैक ही माने हैं. इनमें सूरज से 20 गुना बड़े आकार वाले ब्लैक होल ज्यादा पाए जाते हैं. वहीं, सूरज से करीब एक लाख गुना बड़े ब्लैक होल एक या दो ही हैं.

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस तरह के ब्लैक होल से मानवीय कल्पना को अपनी ओर खींचने वाले स्पेसटाइम फैब्रिक के रहस्यमय, विकृत क्षेत्र के आकार का खुलासा हो सकता है. इससे कई साइंस-फिक्शन फिल्में बनाने की प्रेरणा मिल सकेगी और इससे आने वाली पीढ़ियों के लिए शोध सामग्री उपलब्ध हो सकती है.
Loading...

 

 

ये भी देखें- 

मेक्सिको: बरात में शामिल होने स्काई डाइव कर पहुंचा दूल्हा, VIDEO वायरल
समुद्री मछुआरे ने समुद्र तल से निकालीं ये अजीबोगरीब मछलियां, लोग बोले- 'नर्क से शैतान निकाल लाया'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 2:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...