• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • नेपाल पीएम और एनसीपी अध्यक्ष में हुई 'सीक्रेट डील', ओली के खिलाफ प्रचंड हुए खामोश

नेपाल पीएम और एनसीपी अध्यक्ष में हुई 'सीक्रेट डील', ओली के खिलाफ प्रचंड हुए खामोश

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' (फाइल फोटो)

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' (फाइल फोटो)

आज पहली बार नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (NCP) की स्थाई समिति की बैठक में पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड ने पीएम केपी शर्मा ओली के खिलाफ चुप्पी रखी. सूत्रों के अनुसार आज दोनों के बीच कोई सीक्रेट डील हुई जिसके बाद प्रचंड ने खामोशी ओढ़ ली.

  • Share this:
नई दिल्ली. नेपाल में जून के आखिरी हफ्ते से नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (PM KP Sharma Oli) और पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड (EX PM Prachand) के बीच तनाव कम करने की कोशिश जारी है. आज पहली बार नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (Nepal Communist Party) की स्थाई समिति की बैठक में पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड ने पीएम केपी शर्मा ओली के खिलाफ चुप्पी रखी. सूत्रों के अनुसार आज दोनों के बीच कोई सीक्रेट डील हुई जिसके बाद प्रचंड ने खामोशी ओढ़ ली. वहीं दूसरी ओर नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के स्थाई समिति की बैठक एक हफ्ते के लिए टाल दी.

स्थाई समिति की बैठक एक हफ्ते के लिए टली

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली और नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष प्रचंड के बीच सीक्रेट डील की खबर के बीच एक तरफ प्रचंड ने ओली के खिलाफ अपना तेवर नरम कर दिया है. दूसरी तरफ 8 बार स्थगित होने के बाद जब मंगलवार को स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में ओली के आने के इनकार के बाद स्टैंडिंग कमेटी की बैठक को एक हफ्ते के लिये टाल दिया गया.

जून के आखिरी हफ्ते से था गतिरोध जारी

दरअसल 20 दिन पहले स्टेंडिंग कमेटी की शुरुतात ही ओली के इस्तीफे को प्रमुख एजेंडा मानकर किया गया था लेकिन अब प्रचंड की तरफ से इस्तीफे की मांग पर यूटर्न की वजह से राजनीतिक सरगर्मी सामान्य होती जा रही है. दरअसल किसी सीक्रेट डील के बाद ही प्रचंड के ओली के खिलाफ ख़ामोश होने की चर्चा है. हालांकि अभी तक इस डील पर आधिकारिक कोई बयान नहीं आया है लेकिन प्रचंड का रविवार को हुई उच्चस्तरीय बैठक में खामोशी और ओली की तरफ से पार्टी की जनरल कन्वेंशन बुलाने का प्रस्ताव और दोनो नेताओ का एक साथ राष्ट्रपति के पास जाना और फिर चीनी राजूदूत का पहुँचना बताता है कि ओली और प्रचंड के बीच कोई सीक्रेट डील पक्की हो गई है.

ये भी पढ़ें: नेपाल में सत्ता का गतिरोध जारी, एनसीपी की स्थायी समिति की बैठक फिर से स्थगित

उइगर महिलाओं से अमानवीय व्यवहार पर उबला अमेरिका, 11 चीनी कंपनियों पर लगाया बैन

उधर 'सीक्रेट डील' पर नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के नेता माधव कुमार नेपाल ने सवाल उठाया है और पार्टी की आमसभा का विरोध किया है. माधव कुमार नेपाल खेमे के मानना है कि प्रचंड ने इस्तीफे की मांग को छोड़कर उन्हें धोखा दिया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज