सात महिलाओं का आरोप- गर्भवती होने पर amazon ने नौकरी से निकाला

सात महिलाओं का आरोप- गर्भवती होने पर amazon ने नौकरी से निकाला
महिलाओं ने आरोप लगाया है कि उनके गर्भवती होने के कारण उनके साथ भेदभाव किया गया.

महिलाओं ने आरोप लगाया है कि उनके गर्भवती होने के कारण उनके साथ भेदभाव किया गया.

  • Share this:
एक टेक पोर्टल की रिपोर्ट के अनुसार अमेज़न में कर्मचारी रहीं कुछ महिलाओं ने कंपनी के खिलाफ केस किया है. उनका कहना है कि पिछले आठ सालों में कंपनी ने काम करने वाली गर्भवती महिला कर्मचारियों के खिलाफ भेदभाव किया है. इन महिलाओं ने आरोप लगाया है कि उनके गर्भवती होने के कारण उनके साथ भेदभाव किया गया. एक महिला बेवर्ली रोसेल्स ने बताया कि जब उसने बताया कि वह गर्भवती है उसके दो महीने में ही उसे नौकरी से निकाल दिया गया.

रोसेल्स ने आरोप लगाते हुए कहा कि जनवरी में उनके बॉस ने उसके ऊपर आरोप लगाना शुरू कर दिया कि वह बाथरूम मेंं ज्यादा टाइम लेती है, उसके काम करने की गति धीमी हो गई है. रिपोर्ट के अनुसार उसने बताया कि 'अमेजन चाहता है कि कामगारों से ज्यादा से ज्यादा पैसे लिए जाएं. उनको नंबर्स से ज्यादा मतलब है न कि कर्मचारियों से.'

हालांकि, अमेज़न की ही एक दूसरी महिला कर्मचारी ने कहा कि किसी के भी साथ इस आधार पर भेदभाव नहीं होता है. सभी के साथ समानता का व्यवहार किया जाता है. यहां सभी कर्मचारियों की मेडिकल ज़रूरतों का ख्याल रखा जाता है और सभी कर्मचारियों की मैटरनिटी और पैटरनल जरूरतों को ध्यान रखते हैं.



बता दें कि इससे पहले भी अमेज़न पर अपने कर्मचारियों पर खराब व्यवहार का आरोप लगाया जा चुका है. लेकिन कंपनी ने उस वक्त ये दिखाने की कोशिश की थी कि वह अपने कंपने के कर्मचारियों के साथ अच्छा व्यवहार करता है और कई तरह की सुविधाएं मुहैया कराता है.
ये भी पढ़ें- ICSE, ISC Result 2019: 10वीं में वारुणी, शाम्भवी और हर्षित संयुक्त टॉपर, 12वीं में अनुष्का अव्व्ल

ये भी पढ़ें- बोले बिहारी बाबू- 2019 में पीएम मोदी की कहानी खत्म, बेकार में किए जा रहे झूठे वादे
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsAppअपडेट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज