Home /News /world /

पाकिस्तान में हर दिन 8 बच्चों का यौन शोषण : रिपोर्ट

पाकिस्तान में हर दिन 8 बच्चों का यौन शोषण : रिपोर्ट

घरेलू हिंसा के मामले इससे ज्यादा हो सकते हैं, लेकिन ज्यादातर महिलाएं इसकी शिकायत करने से डरती हैं.

घरेलू हिंसा के मामले इससे ज्यादा हो सकते हैं, लेकिन ज्यादातर महिलाएं इसकी शिकायत करने से डरती हैं.

पाकिस्‍तान में बच्‍चों का यौन शोषण चरम पर है. देश में बलात्कार के 279, बलात्कार के प्रयास के 210, सामूहिक दुष्कर्म के 205 मामले और सामूहिक बलात्कार के 115 मामले दर्ज किए गए.

    इस्‍लामाबाद. बच्‍चों के साथ होने वाले यौन अपराधों के मामले में एक रिपोर्ट सामने आई है. इसमें कहा गया है कि 2019 में पाकिस्तान (Pakistan) में हर दिन 8 बच्चों का यौन शोषण (Sexual Abuse) किया गया. हालांकि पिछले साल के मुकाबले में यह 25 फीसदी कम है.

    बाल संरक्षण के लिए काम कर रहे गैरसरकारी संगठन 'साहिल' के मुताबिक 2019 में पाकिस्तान के सभी चार प्रांतों और साथ ही इस्लामाबाद, पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान से बाल अपराध से जुड़े कुल 2 हजार, 846 मामले दर्ज किए गए.

    रिपोर्ट में कहा गया है कि 778 बच्‍चों का अपहरण किया गया. 405 बच्चे लापता हो गए. 384 के साथ छेड़छाड़ हुई. वहीं बलात्कार के 279, बलात्कार के प्रयास के 210, सामूहिक दुष्कर्म के 205 मामले और सामूहिक बलात्कार के 115 मामले दर्ज किए गए. इसके अलावा देशभर से 104 बाल विवाह के मामले भी सामने आए.

    पांच साल तक के बच्‍चों का भी शोषण हुआ
    पीड़ितों में से ज्यादातर यानी 54 फीसदी लड़कियां थीं, वहीं 46 फीसदी लड़के थे. इनमें सबसे कम उम्र के बच्‍चे 6 से 15 साल की उम्र के थे. हालांकि रिपोर्ट के अनुसार 0-5 साल तक के बच्चों का भी यौन शोषण किया गया. पोर्नोग्राफी (Pornography) से जुड़े कम से कम 70 मामलों की पहचान की गई थी. इस रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में पाकिस्तान में बाल शोषण के कुल 3,832 मामले सामने आए.

    ये भी पढ़ें - एयरपोर्ट अधिकारियों की सलाह- बकरे की कुर्बानी दो, कोरोना ठीक हो जाएगा

               कोरोना वायरस : दक्षिण अफ्रीका ने राष्ट्रीय आपदा घोषित की


    पाा‍िााकिकि

    Tags: Child sexual abuse, Pakistan, Survey report

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर