शर्मिंदगी का घूंट पीने को तैयार पाक, ओसामा की ख़बर अमेरिका को देने वाला डॉक्टर होगा रिहा

डॉ शकील आफरीदी ने अमेरिका को लादेन के पाकिस्तान में छिपे होने की ख़बर दी थी . ऐसे में पाकिस्तानी उन्हें देशद्रोही मानते हैं लेकिन अमेरिका डॉ आफरीदी को हीरो मानता है क्योंकि उन्होंने 9/11 के अमेरिकी हमले के आरोपी को मरवाने में मदद की थी.

News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 6:21 PM IST
शर्मिंदगी का घूंट पीने को तैयार पाक, ओसामा की ख़बर अमेरिका को देने वाला डॉक्टर होगा रिहा
अमेरिका को ओसामा की ख़बर देने वाले डॉ शकील आफरीदी हो सकते हैं रिहा (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 6:21 PM IST
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमेरिकी जेल में बंद न्यूरोसाइंटिस्ट आफिया सिद्दीकी की रिहाई के बदले पाकिस्तानी जेल में बंद सर्जन शकील आफरीदी को रिहा करने की पेशकश की है. बता दें कि आफरीदी ने ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में अमेरिकी खूफिया एजेंसी CIA की मदद की थी. वहीं आफिया को अफगानिस्तान में FBI एजेंट और अमेरिकी सैनिकों पर गोली चलाने के जुर्म में 2010 में दोषी ठहराया गया था. वह अमेरिका की जेल में 86 वर्ष के कारावास की सजा काट रही हैं.

हालांकि अपने पहले आधिकारिक अमेरिकी दौरे पर आए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमेरिकी न्यूज चैनल फॉक्स न्यूज को दिये इंटरव्यू में पाकिस्तानी डॉक्टर शकील आफरीदी की रिहाई को लेकर कोई भी वादा करने में तैयार नहीं दिखे. उन्होंने कहा कि आफरीदी की रिहाई देश के लिये एक भावनात्मक मुद्दा है क्योंकि उन्हें पाकिस्तान में अमेरिका का जासूस माना जाता है.

इमरान खान ने इंटरव्यू में माना, आफिया सिद्दकी की रिहाई पर रिहा किए जा सकते हैं आफरीदी
हालांकि इमरान ने कहा कि पाक, अमेरिका के पाकिस्तानी न्यूरोसाइंटिस्ट आफिया की रिहाई के बदले आफरीदी को छोड़ने पर विचार कर सकता है. खान ने कहा, "ऐसे में हम उनकी अदला-बदली को लेकर बातचीत कर सकते हैं." उन्होंने कहा कि व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति ट्रंप के साथ हुई मुलाकात के दौरान इस बारे में बातचीत नहीं हुई.

इमरान ने कहा कि आफरीदी और आफिया की अदला-बदली पर भविष्य में बातचीत की जा सकती है. उन्होंने कहा, "हम बातचीत कर सकते हैं. मेरा मतलब है कि अभी तक बातचीत शुरु नहीं की गई है."

पाकिस्तान को पता था कहां छिपा है लादेन
खैबर एजेंसी के पूर्व सर्जन आफरीदी (57) ने ओसामा का पता लगाने में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की मदद करने के लिये पाकिस्तान के छावनी शहर एबटाबाद में फर्जी टीकाकरण अभियान चलाया था. इसके बाद दो मई 2011 को ऐबटाबाद में ही अमेरिकी हमले में ओसामा की मौत हो गई थी. आफरीदी को उसी साल पेशावर से गिरफ्तार किया गया था.
Loading...

इस बात को भी पाकिस्तान ने पहली बार आधिकारिक तौर पर कबूल लिया है कि पाकिस्तान को लादेन के ठिकाने के बारे में पता था.

आफरीदी की रिहाई को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने कैंपेन का मुद्दा भी बनाया था
अमेरिका, पाकिस्तान से आफरीदी को रिहा करने की मांग कर चुका है. दरअसल यह मुद्दा अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के दिल के करीब है और उन्होंने अपने चुनावी कैंपेन में भी इस मुद्दे का जिक्र किया था. ओसामा को मारने में मदद करने के चलते आफरीदी को अमेरिका हीरो मानता है. आफरीदी की दी ख़बरों के आधार पर ही अमेरिकी स्पेशल फोर्सेज ने 'ऑपरेशन जेरोनिमो' के तहत ओसामा का खात्मा किया था. उन्होंने यह भी कहा था कि अगर अमेरिका चाहे तो पाकिस्तान से शकील आफरीदी को दो मिनट में रिहा करा सकता है. अब राष्ट्रपति ट्रंप अपने इरादों में सफल होते दिख रहे हैं.

यह भी पढ़ें: 13 साल की परंपरा तोड़ ट्रंप ने दिया पाक जाने का आश्वासन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...