अफगानिस्तान सरकार से वार्ता से पहले तालिबान संगठन में महत्वपूर्ण फेरबदल

अफगानिस्तान सरकार से वार्ता से पहले तालिबान संगठन में महत्वपूर्ण फेरबदल
अफगानिस्तान में दशकों से जारी संघर्ष को खत्म करने का हो रहा है प्रयास (File Photo)

अफगानिस्तान (Afganistan) में दशकों से जारी संघर्ष (Struggle) को खत्म करने की मंशा के साथ होने जा रही वार्ता से पहले तालिबान (Taliban) ने संगठन में महत्वपूर्ण फेरबदल किया है और अभियान के संस्थापक के बेटे को अपनी सैन्य इकाई का प्रभार सौंप दिया है.

  • Share this:
इस्लामाबाद. अफगानिस्तान (Afganistan) में दशकों से जारी संघर्ष (Struggle) को खत्म करने की मंशा के साथ होने जा रही वार्ता से पहले तालिबान (Taliban) ने संगठन में महत्वपूर्ण फेरबदल किया है और अभियान के संस्थापक के बेटे को अपनी सैन्य इकाई का प्रभार सौंप दिया है. इसके अलावा उसने अपने वार्ता दल में ताकतवर लोगों को शामिल किया है. यह जानकारी तालिबान के अधिकारियों ने दी.

नव गठित सैन्य इकाई के प्रमुख बने मुल्ला मोहम्मद याकूब

नव गठित सैन्य इकाई का प्रमुख 30 वर्षीय मुल्ला मोहम्मद याकूब के बनने से अब संघर्ष क्षेत्र में उसके पिता की उग्र और कट्टर छवि की वापसी होगी. तालिबानी अधिकारियों ने एपी को बताया कि 20 सदस्यीय वार्ता दल में आतंकवादी समूह की नेतृत्व परिषद के चार सदस्यों को शामिल करना भी उतना ही महत्वपूर्ण कदम है.



आतंकवादी समूह पर नियंत्रण कसने की तैयारी
तालिबान के नेता मुल्ला हिबातुल्ला अखुनजादा द्वारा किया गया यह फेरबदल आतंकवादी समूह की सैन्य एवं सियासी इकाई पर अपना नियंत्रण और कसने की कवायद है.
विश्लेषकों की मानें तो यह बदलाव काबुल में अफगानिस्तान के सियासी नेतृत्व के साथ वार्ता के लिहाज से एक अच्छी खबर है क्योंकि इससे संकेत मिलता है कि इस बार तालिबान फरवरी में वाशिंगटन के साथ हुए समझौते की दिशा में इस कदम को कितनी गंभीरता से ले रहा है.

ये भी पढ़ें: पॉम्पिओ ने कहा, लोकतंत्र और स्वतंत्रता से प्रेम करने वाले देश चीन की चुनौतियों का जवाब दें

भारत में कम हुई है गरीबी, 27.3 करोड़ लोग आए बाहर: संयुक्त राष्ट्र

चीन अपने हित में नेपाल जैसे कमजोर राष्ट्र के भ्रष्ट नेताओं का उपयोग करता है: रिपोर्ट

नेपाल में PM-प्रचंड विवाद में आया नया मोड़, ओली ने दिया सुझाव किसे बनाएं पीएम

वाशिंगटन स्थित यूएस इंस्टीट्यूट ऑफ पीस में एशिया प्रोग्राम के उपाध्यक्ष एंड्रयू वाइल्डर कहते हैं, ‘‘मैं इसे एक सकारात्मक घटनाक्रम कहूंगा क्योंकि तालिबान जो प्रतिनिधिमंडल बना रहा है उसके लोग और वरिष्ठ हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज