लाइव टीवी

मानव तस्करी का दोषी पाया गया भारतीय कपल, सिंगापुर में चलाता था एंटरटेनमेंट क्लब

News18Hindi
Updated: November 16, 2019, 10:33 AM IST
मानव तस्करी का दोषी पाया गया भारतीय कपल, सिंगापुर में चलाता था एंटरटेनमेंट क्लब
महिलाओं की तस्करी में भारतीय कपल दोषी

'चैनल न्यूज एशिया' के मुताबिक भारतीय नागरिक प्रियंका भट्टाचार्य राजेश (29) और माल्कर सावलाराम अनंत (49) पर महिलाओं के उत्पीड़न का आरोप भी लगा था. इनमें से एक महिला को देह व्यापार में धकेला गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2019, 10:33 AM IST
  • Share this:
सिंगापुर. सिंगापुर (Singapore) में एक भारतीय कपल (Indian couple) को महिलाओं की तस्करी (Trafficking) करने के आरोप में दोषी पाया गया है. यह दंपति बोट क्वे में दो एंटरटेनमेंट क्लब चलाते हैं. तीन बांग्लादेशी महिलाओं को अवैध तरीके से यहां लाने के मामले में शुक्रवार को दंपति को दोषी पाया गया. इन लोगों को 19 दिसंबर को सजा सुनाई जाएगी.

क्लब में डांसर का दिया था काम
'चैनल न्यूज एशिया' के मुताबिक भारतीय नागरिक प्रियंका भट्टाचार्य राजेश (29) और माल्कर सावलाराम अनंत (49) पर महिलाओं के उत्पीड़न का आरोप भी लगा था. इनमें से एक महिला को देह व्यापार में धकेला गया. चैनल ने अदालती दस्तावेजों के हवाले से बताया कि इन महिलाओं को ‘कंगन’ और ‘किक’ क्लबों में डांसर के तौर पर नौकरी और 60,000 बांग्लादेशी टका (982 सिंगापुरी डॉलर) दिए जाने का वादा किया गया था.

इस तरह करते थे परेशान

अभियोजन पक्ष ने बताया कि महिलाओं को यहां बहुत ही बुरी स्थिति में रखा गया था. किसी भी महिला को ग्राहक से मिले पैसों को रखने नहीं दिया जाता था, ये लोग इन पैसों को छीन लेते थे. इसके अलावा इनमें से दो महिलाओं को उनकी सैलरी भी नहीं दी गई थी. चैनल ने बताया कि महिलाओं से उनके पासपोर्ट जमा करने को कहा गया था और उन्हें उनके काम करने के 'परमिट' भी नहीं दिए गए थे.

महिलाओं को बीमारी में भी काम करने को मजबूर किया जाता था. उनसे हफ्ते के सातों दिन काम कराया जाता था. इन महिलाओं पर पूरे समय निगरानी रखी जाती थी.

पुलिस को मिली एक खुफिया सूचना के आधार पर 'मिनिस्ट्री ऑफ मैनपावर' के साथ संयुक्त अभियान के बाद दंपति के अपराधों का खुलासा हुआ. (भाषा इनपुट के साथ)ये भी पढ़ें : रिसर्च: इकलौते बच्चों में इस बीमारी की आशंका सात गुना अधिक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 9:27 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर