सिंगापुर: कोरोनाकाल में पैदा होने वाले बच्चों के पैरेंट्स मिलेगा भारी भरकम बेबी बोनस

सिंगापुर सरकार बच्चा पैदा करने के लिए पैरेंट्स को भारी भरकम बेबी बोनस देगी.
सिंगापुर सरकार बच्चा पैदा करने के लिए पैरेंट्स को भारी भरकम बेबी बोनस देगी.

सिंगापुर सरकार (Singapore Government) कोरोनोवायरस महामारी के दौरान लोगों को बच्चे पैदा (Child Birth) करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार पैसा (Baby Bonus) देने की पेशकश कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 6:49 PM IST
  • Share this:
सिंगापुर. आपको यह अचरज भरी बात लग सकती है कि सिंगापुर (Singapore) में कोरोनोवायरस महामारी (Coronavirus Pendemic) के दौरान लोगों को बच्चे पैदा करने के लिए पैसा दिया जा रहा है. कोरोनोवायरस महामारी के दौरान लोगों को बच्चे पैदा (Child Birth) करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार पैसा देने की पेशकश कर रही है. कोरोना के कारण आम जनता नौकरी की छंटनी के चलते आर्थिक तनाव से जूझ रही है जिससे वे अपना परिवार बढ़ाने से भी डर रहे हैं. इस चिंता और तनाव को दूर करने के लिए सरकार ने यह कदम उठाने की सोची है. भुगतान की जाने वाली राशि का विवरण अभी तक जारी नहीं किया गया है. यह प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा दिए जाने वाले कई छोटे बेबी बोनस के अतिरिक्त होगा.

दुनिया में सबसे कम जन्म दर वाला देश सिंगापुर ही है

दुनिया में सबसे कम जन्म दर सिंगापुर में हैं जिसे वह सालों से बढ़ावा देता आ रहा है. सिंगापुर अपने कुछ पड़ोसियों जैसे इंडोनेशिया और फिलीपींस से बिलकुल अलग हैं. इन देशों में अपने कोरोनावायरस लॉकडाउन के दौरान गर्भधारण में बड़े पैमाने पर उछाल की संभावना जताई जा रही है. सिंगापुर के उप प्रधानमंत्री हेंग स्वी कीट ने सोमवार को कहा कि हमें सुनने को मिल रहा है कि कोविड-19 के कारण बच्चे के लिए प्रयासरत कुछ मातापिता अपनी इस योजना को स्थगित कर रहे हैं. उप प्रधानमंत्री ने इस को दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि के बारे में अधिक जानकारी और भुगतान करने की प्रक्रिया की घोषणा के बारे में बताया कि इनकी घोषणा बाद में की जाएगी.



सिंगापुर की वर्तमान बेबी बोनस प्रणाली
सिंगापुर की वर्तमान बेबी बोनस प्रणाली में माता-पिता को 10,000 सिंगापुर मुद्रा (लगभग 5. 50 लाख रुपये) तक प्रदान किया जाता है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक सिंगापुर में प्रजनन दर 2018 में आठ साल के निचले स्तर को छू गई थी जो प्रति महिला 1.14 जन्म दर है. प्रजनन दर में गिरावट कई एशियाई देशों में एक बड़ा मुद्दा है जो महामारी के दौरान और ज्यादा नीचे गिर सकती है.

ये भी पढ़ें: ठंड के मौसम में कोविड-19 के मामले बढ़ने की आशंका से ठिठुरी पाकिस्तान सरकार

जापान के पीएम ने कहा, चीन की हठधर्मिता को रोकना कोरोना महामारी से ज्यादा अहम

चीन में भी इस साल की शुरुआत में उसके गठन के 70 सालों के बाद प्रजनन दर सबसे कम हो गई थी. बच्चों से जुड़ी इस नीति की बहुत आलोचना की जाती रही थी जिसमें ढील देने के बाद भी इस वर्ष यह परिणाम देखने को मिला.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज