सिंगापुर के PM बोले- पूरी तरह खत्म नहीं होगी कोरोना महामारी, नई स्थिति में जीवन को आगे बढ़ाएं

पीएम ने कहा, भले ही हम अपने यहां कोविड-19 की स्थिति से निपट लें, महामारी हमारे आसपास बढ़ती रहेगी.

पीएम ने कहा, भले ही हम अपने यहां कोविड-19 की स्थिति से निपट लें, महामारी हमारे आसपास बढ़ती रहेगी.

सिंगापुर के प्रधानमंत्री ने कहा, 'इस नव सामान्य स्थिति में हमें अपने बीच वायरस की मौजूदगी के साथ जीवन को आगे बढ़ाना सीखना होगा. हमारा उद्देश्य कुल मिलाकर समुदाय को सुरक्षित रखना होना चाहिए, इस सच को स्वीकारते हुए कि कुछ लोग इससे जब तब संक्रमित हो सकते हैं.'

  • Share this:

    सिंगापुर. सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग ने कहा कि घातक कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) पूरी तरह खत्म नहीं होगा और आने वाले सालों में भी लोगों को संक्रमित करता रहेगा. उन्होंने देश की सीमाओं को फिर से खोलने का वादा करते हुए देश के नागरिकों से कहा कि इस नव सामान्य स्थिति में अपने जीवन को आगे बढ़ाएं.

    सरकार की कोविड-19 योजना पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए ली ने कहा कि कोविड-19 महामारी मानव जाति के साथ रहेगी और स्थानिक हो जाएगी. उन्होंने कहा, 'एक दिन यह वैश्विक महामारी कम होगी. लेकिन मुझे कोविड-19 के खत्म होने की उम्मीद नहीं है. यह मानव जाति के साथ रहेगी और स्थानिक बन जाएगी. आने वाले सालों में यह वायरस वैश्विक आबादी के हिस्सों में प्रसारित होता रहेगा. इसका यह मतलब भी है कि हमें सिंगापुर में भी समय-समय पर यह बीमारी देखने को मिलती रहेगी.'

     वायरस की मौजूदगी के साथ जीवन को आगे बढ़ाना सीखना होगा
    उन्होंने कहा, 'इस नव सामान्य स्थिति में हमें अपने बीच वायरस की मौजूदगी के साथ जीवन को आगे बढ़ाना सीखना होगा. हमारा उद्देश्य कुल मिलाकर समुदाय को सुरक्षित रखना होना चाहिए, इस सच को स्वीकारते हुए कि कुछ लोग इससे जब तब संक्रमित हो सकते हैं. ठीक वैसे ही जैसा हम आम संक्रामक जुकाम या डेंगू बुखार में करते हैं, हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों और व्यक्तिगत एहतियात बरत कर इनका मुकाबला करना होगा. और संक्रामक जुकाम के मामले में नियमित टीकाकरण के जरिये भी.'
    हमारे आसपास बढ़ती रहेगी महामारी
    ली ने कहा कि बहुत से देश अब भी इस महामारी को पूरी तरह नियंत्रित करने, या बहुत कम इसे खत्म करने के लिये संघर्ष कर रहे हैं. उन्होंने कहा, 'भले ही हम अपने यहां कोविड-19 की स्थिति से निपट लें, महामारी हमारे आसपास बढ़ती रहेगी.'

    उन्होंने कहा कि भारत को बड़े पैमाने पर नए मामलों का सामना करना पड़ा है, यद्यपि वहां संख्या में अब कमी आ रही है जबकि दक्षिणपूर्व एशिया में कई देशों ने बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू नहीं किया है और इनमें के कई आने वाले महीनों में मामलों में और वृद्धि दdiv class="article_faq">

      सिंगापुर. सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग ने कहा कि घातक कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) पूरी तरह खत्म नहीं होगा और आने वाले सालों में भी लोगों को संक्रमित करता रहेगा. उन्होंने देश की सीमाओं को फिर से खोलने का वादा करते हुए देश के नागरिकों से कहा कि इस नव सामान्य स्थिति में अपने जीवन को आगे बढ़ाएं.

      सरकार की कोविड-19 योजना पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए ली ने कहा कि कोविड-19 महामारी मानव जाति के साथ रहेगी और स्थानिक हो जाएगी. उन्होंने कहा, 'एक दिन यह वैश्विक महामारी कम होगी. लेकिन मुझे कोविड-19 के खत्म होने की उम्मीद नहीं है. यह मानव जाति के साथ रहेगी और स्थानिक बन जाएगी. आने वाले सालों में यह वायरस वैश्विक आबादी के हिस्सों में प्रसारित होता रहेगा. इसका यह मतलब भी है कि हमें सिंगापुर में भी समय-समय पर यह बीमारी देखने को मिलती रहेगी.'

       वायरस की मौजूदगी के साथ जीवन को आगे बढ़ाना सीखना होगा

      उन्होंने कहा, 'इस नव सामान्य स्थिति में हमें अपने बीच वायरस की मौजूदगी के साथ जीवन को आगे बढ़ाना सीखना होगा. हमारा उद्देश्य कुल मिलाकर समुदाय को सुरक्षित रखना होना चाहिए, इस सच को स्वीकारते हुए कि कुछ लोग इससे जब तब संक्रमित हो सकते हैं. ठीक वैसे ही जैसा हम आम संक्रामक जुकाम या डेंगू बुखार में करते हैं, हमें सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों और व्यक्तिगत एहतियात बरत कर इनका मुकाबला करना होगा. और संक्रामक जुकाम के मामले में नियमित टीकाकरण के जरिये भी.'



      हमारे आसपास बढ़ती रहेगी महामारी

      ली ने कहा कि बहुत से देश अब भी इस महामारी को पूरी तरह नियंत्रित करने, या बहुत कम इसे खत्म करने के लिये संघर्ष कर रहे हैं. उन्होंने कहा, 'भले ही हम अपने यहां कोविड-19 की स्थिति से निपट लें, महामारी हमारे आसपास बढ़ती रहेगी.'


      उन्होंने कहा कि भारत को बड़े पैमाने पर नए मामलों का सामना करना पड़ा है, यद्यपि वहां संख्या में अब कमी आ रही है जबकि दक्षिणपूर्व एशिया में कई देशों ने बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू नहीं किया है और इनमें के कई आने वाले महीनों में मामलों में और वृद्धि देख सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज