Home /News /world /

तालिबान पर सोशल अटैक! वॉट्सऐप खाते होंगे ब्लॉक, फेसबुक और यूट्यूब पर भी लगे प्रतिबंध

तालिबान पर सोशल अटैक! वॉट्सऐप खाते होंगे ब्लॉक, फेसबुक और यूट्यूब पर भी लगे प्रतिबंध

फेसबुक ने कहा है कि उसने मंच पर तालिबान और उसका समर्थन करने वाली सभी सामग्री को प्रतिबंधित कर दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

फेसबुक ने कहा है कि उसने मंच पर तालिबान और उसका समर्थन करने वाली सभी सामग्री को प्रतिबंधित कर दिया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Afghanistan Crisis: फेसबुक ने तालिबान को 'डेंजरस ऑर्गेनाइजेशन पॉलिसीज' (Dangerous Organization policies) के तहत अपनी सेवाओं पर बैन लगा दिया है. कंपनी के इस कदम का तालिबान ने विरोध किया है.

    वॉशिंगटन. सोशल मीडिया (Social Media) कंपनी फेसबुक (Facebook) भी तालिबान (Taliban) के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की तैयारी कर रही है. कंपनी ने कहा है कि वे तालिबान वॉट्सऐप खातों (WhatsApp Accounts) पर रोक लगाने जा रहा है, क्योंकि वे इसे आतंकवादी संगठन मानती है. मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर तालिबान को रोकने के लिए फेसबुक अफगानिस्तान के जानकारों की मदद लेगा. फेसबुक ने तालिबान को ‘डेंजरस ऑर्गेनाइजेशन पॉलिसीज’ के तहत अपनी सभी सेवाओं पर बैन लगा दिया है. कंपनी के इस कदम का तालिबान ने विरोध किया है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी ने कहा है कि अमेरिकी कानूनों के तहत तालिबान पर आतंकी संगठन के तौर पर प्रतिबंध हैं. इसके चलते कंपनी को अमेरिकी प्रतिबंधों को मानना होगा. एएफपी को दिए साक्षात्कार में फेसबुक ने कहा, ‘इसमें उन खातों पर बैन लगाना भी शामिल है, जो खुद को तालिबान के आधिकारिक खाते के रूप में प्रस्तुत करते हैं. हम अमेरिकी अधिकारियों से अफगानिस्तान के बदलते हालात पर और जानकारी मांग रहे हैं.’

    कंपनी ने कहा, ‘इसका मतलब है कि हम तालिबान या उसकी तरफ से बनाए गए खातों को हटाएंगे और उनकी तारीफ, समर्थन और प्रतिनिधित्व पर रोक लगाएंगे.’ फेसबुक ने बताया है कि वे नीति तैयार करने के लिए दरी और पश्तो बोलने वाले जानकारों की मदद ले रहे हैं. साथ ही कंपनी ने यह भी साफ किया है कि नीति उसके सभी प्लेटफॉर्म्स पर लागू होगी.

    यह भी पढ़ें: अफगानिस्तानः तालिबान ने सलीमा मजारी को पकड़ा, अपनी सेना बना रहीं थीं पहली महिला गवर्नर

    भाषा के अनुसार, फेसबुक ने कहा है कि उसने मंच पर तालिबान और उसका समर्थन करने वाली सभी सामग्री को प्रतिबंधित कर दिया है, क्योंकि वह समूह को आतंकवादी संगठन मानता है. कंपनी का कहना है कि उसके पास बागी समूह से संबंधित सामग्री पर नजर रखने और उसे हटाने के लिए अफगान विशेषज्ञों की एक समर्पित टीम है. वर्षों से तालिबान अपने संदेशों का प्रसार करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता आया है.

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान के प्रवक्ता ने फेसबुक की तरफ से लगाई गई रोक का विरोध किया है. फेसबुक के अलावा अल्फाबेट कंपनी के यूट्यूब ने भी उन खातों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जो तालिबान या उसकी तरफ से संचालित माने जा रहे थे.

    Tags: Ban, Facebook, Taliban, Whatsapp

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर