Home /News /world /

इंडोनेशिया में मछुआरों ने ढूंढ़ा 700 साल पुराना खोया हुआ बहुमूल्य खजाना, दुर्लभ प्रतिमाएं भी मिली

इंडोनेशिया में मछुआरों ने ढूंढ़ा 700 साल पुराना खोया हुआ बहुमूल्य खजाना, दुर्लभ प्रतिमाएं भी मिली

बहुमूल्य रत्नों से जड़ी आठवीं शताब्दी की बौद्ध प्रतिमा और श्रीविजय राजवंश के बहुमूल्य रत्न-आभूषण.

बहुमूल्य रत्नों से जड़ी आठवीं शताब्दी की बौद्ध प्रतिमा और श्रीविजय राजवंश के बहुमूल्य रत्न-आभूषण.

700 साल बाद मछुआरों ने इस बहुमूल्य खजाने को खोज निकाला है। समुद्री खाेजकर्ता डॉ. शॉन किंगस्ले के अनुसार ये सुमात्रा के गायब स्वर्ण द्वीप की खोज है.

    जकार्ता. सदियों से दक्षिण पूर्वी एशिया का देश इंडोनेशिया भारतीय संस्कृति का विस्तार माना जाता रहा है. यहां के सुमात्रा द्वीप में सातवीं से 13 वीं शताब्दी तक श्रीविजय राजवंश का शासन रहा. पेलंगबांग को इस राजवंश का स्वर्ण द्वीप कहा जाता था. भारतीय चोल राजाओं ने यहां हमला कर बहुमूल्य खजाने को लूटा और श्रीविजय राजवंश के राजाओं को बंधक बना लिया.

    Lost Island of Gold may have been found by Sumatran fishermen

    श्रीविजय राजवंश का था समुद्रों पर राज

    वापसी में ये खजाना गायब हो गया। खतरनाक मगरमच्छों से भरी पेलंगबांग की मुसी नदी में लोग इसकी खोज में लगे रहे. अब लगभग 700 साल बाद मछुआरों ने इस बहुमूल्य खजाने को खोज निकाला है. समुद्री खाेजकर्ता डॉ. शॉन किंगस्ले के अनुसार ये सुमात्रा के गायब स्वर्ण द्वीप की खोज है.

    Lost Island of Gold may have been found by Sumatran fishermen

    समुद्री खाेजकर्ता डॉ. शॉन किंगस्ले के अनुसार ये सुमात्रा के गायब स्वर्ण द्वीप की खोज है.

    इतिहासकारों के अनुसार सुमात्रा का श्रीविजय राजवंश 13 वीं शताब्दी तक दक्षिणपूर्वी एशिया के द्वीपों पर शासन था. समुद्री शक्ति होने के कारण इसका फैलाव भारत के पूर्वी तटाें और दक्षिण चीन महासागर था. यहां पूर्व में मिले भारतीय और चीनी सिक्के इस बात का प्रमाण है. अंतरराष्ट्रीय जल क्षेत्राें में श्रीविजय राजवंश का एकछत्र राज था. यहां बौद्ध और हिंदू धर्म की प्रतिमाएं भी मिली हैंं. बाद में ये राजवंश जावा के मलायु तक सिमट गया.

    Tags: Bizarre news, Indonesia, OMG News, Viral story

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर