इन दो देशों में गुल हुई बिजली, ट्रेनें रुकीं, दुकानें बंद, मोबाइल की रोशनी में हुई वोटिंग

अर्जेंटीना में गवर्नर के लिए हो रहे चुनावों में मतदाताओं ने फोन की रोशनी में मतदान किया. सार्वजनिक यातायात ठप हो गया, ट्रेनें रुक गईं. इतना ही नहीं दुकानें बंद हो गईं.

News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 11:59 AM IST
इन दो देशों में गुल हुई बिजली, ट्रेनें रुकीं, दुकानें बंद, मोबाइल की रोशनी में हुई वोटिंग
अर्जेंटीना और उरुग्वे का एक साझा पावर ग्रिड है AP Photo/Tomas F. Cuesta)
News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 11:59 AM IST
अर्जेंटीना और उरुग्वे में भारी पैमाने पर हुई बिजली कटौती अभी भी कई इलाकों में जारी है. रविवार को हुई इस कटौती  से 4.4 करोड़ लोग इससे प्रभावित हुए. पड़ोसी देशों में आपस में जुड़ी पावर ग्रिड में गड़बड़ी की वजह से बिजली गुल हो गई. बिजली जाने के तुरंत बाद ट्रेनें जहां की तहां खड़ी हो गईं. अर्जेंटीना में मतदान चल रहा था लेकिन वह भी लोगों को मोबाइल फोन की रोशनी में करना पड़ा.

बिजली जाते ही अधिकारी आपूर्ति बहाल करने में लग गए थे, हालांकि रविवार दोपहर तक अर्जेंटीना के केवल 10 लाख लोगों के घरों में ही बिजली बहाल हो पाई. अर्जेंटीना में गवर्नर के लिए हो रहे चुनावों में मतदाताओं ने फोन की रोशनी में मतदान किया. सार्वजनिक यातायात ठप हो गया. इतना ही नहीं दुकानें बंद हो गईं. जो मरीज घर में चिकित्सीय उपकरणों पर निर्भर थे उनसे अपील की गई कि वे जनरेटर वाले अस्पतालों में चले जाएं.

बिजली आपूर्ति करने वाली कंपनी एडेसुर ने कहा कि, 'अर्जेंटीना और उरूग्‍वे में इलेक्ट्रिकल इंटरकनेक्‍शन सिस्टम में दिक्कत आई जिसके चलते पूरे अर्जेंटीना और उरूग्‍वे में बिजली की सप्‍लाई नहीं हो पा रही है.' अर्जेंटीना के ला रियोखा, शूबूत, कोर्डोबा, मेंडोजा, फोरमोसा, सेन लुइस और सांता फे में बिजली पूरी तरह से गुल थी.

अब भी कई जगह हालात हैं खराब

समाचार एजेंसी AP के अनुसार अर्जेंटीना की समाचार एजेंसी ने कहा कि सोमवार सुबह तक देश की 90 फीसदी बिजली की व्यवस्था सही कर दी गई है. बिजली गुल हो जाने की वजह से कई लोगों के कारोबार पर असर पड़ा. जिस दिन बिजली गुल हुई उस दिन अर्जेंटीना में फादर्स डे था और कुछ रेस्तरां मालिकों को उम्मीद थी की ज्यादा से ज्यादा ग्राहक आएंगे. ब्यूनस आयर्स के एक लोकप्रिय रेस्तरां के मालिक लुसियानो फरेरा ने कहा, 'इसने हमें मार डाला. रेस्तरां पूरी तरह से बुक हो गया था और फरेरा सामान्य दिन के मुकाबले, दो या तीन गुणा ज्यादा पैसा कमाने की उम्मीद कर रहे थे.'

यह भी पढ़ें:  इन देशों में खतरनाक बिजली संकट, जेनरेटरों से चल रहे एयरपोर्ट

(AP Photo/Tomas F. Cuesta)

Loading...

कुछ लोगों ने व्हाट्सएप पर एक दूसरे को सुझाव दिया कि लंबे समय तक बिजली न रहने की दशा में कैसे स्थिति को संभाले. लोगों ने एकदूसरे को ज्यादा से ज्यादा पानी का स्टोरेज रखने की सलाह दी. एडुआर्डो ग्रेलाटो ने कहा कि 'सौभाग्य से, हमारे पास आँगन में दो बाल्टी थीं जो बारिश के पानी से भरे हुए थे. हम पाषाण युग में वापस चले गए थे.'

सड़कें रहीं खाली
बिजली कटने वाले दिन  ब्यूनस आयर्स में सड़कें काफी हद तक खाली थीं, हालांकि कुछ स्टोर खुले थे, जनरेटर के जरिए काम कर रहे थे, जबकि मोंटेवीडियो लगभग पूरी तरह से बिजली के बिना था, जिसमें केवल कुछ ट्रैफिक लाइट काम कर रहे थे.

अर्जेंटीना और उरुग्वे का एक साझा पावर ग्रिड है जो ब्यूनस आयर्स के उत्तर में 450 किलोमीटर (280 मील) द्वी पक्षीय  साल्टो ग्रांडे डैम पर बना है.

यह भी पढ़ें:  अर्जेंटीनी चैनल ने मोदी के पहुंचने पर चलाई नस्‍लीय कार्टून कैरेक्‍टर की तस्‍वीर
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

First published: June 17, 2019, 10:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...