Home /News /world /

बिछड़े जिगर के टुकड़े को पाकर ऐसे बही खुशी, भावुक कर देगी काबुल की ये फोटो

बिछड़े जिगर के टुकड़े को पाकर ऐसे बही खुशी, भावुक कर देगी काबुल की ये फोटो

काबुल एयरपोर्ट पर यह बच्चा 29 साल के एक टैक्सी चालक को मिला था. टैक्सी चालक इस बच्चे को अपने घर लेकर गया और पूरी देखभाल की.

काबुल एयरपोर्ट पर यह बच्चा 29 साल के एक टैक्सी चालक को मिला था. टैक्सी चालक इस बच्चे को अपने घर लेकर गया और पूरी देखभाल की.

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान में US एम्बेसी में सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम करने वाले मिर्जा अली अहमद और उनकी बीवी सुराया 19 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट में घुसने की कोशिश कर रहे थे. उनके साथ उनके 5 बच्चे भी थे, जिसमें से सबसे छोटा बच्चा सोहेल 2 महीने का था. इसी भगदड़ में बच्चा लापता हो गया.

अधिक पढ़ें ...

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद चलाए गए अमेरिकी रेस्क्यू मिशन के दौरान बेहद मार्मिक तस्वीरें सामने आई थीं, जिनमें अमेरिकी सैनिक (US Forces) छोटे बच्चों को काबुल एयरपोर्ट के कंटीले तारों के ऊपर से पार करा रहे थे. ऐसे ही एक वाकये में 2 महीने का बच्चा खो गया था. सैनिकों के साथ बच्चे का परिवार भी अमेरिका चला गया, लेकिन यह बच्चा उनसे बिछड़कर अफगानिस्तान में ही रह गया, जिसे उसके माता-पिता 80 दिनों से ढूंढ़ रहे थे. अब ये बच्चा आखिरकार अब अपने रिश्तेदारों को वापस मिला है. तस्वीर में रो रहा शख्स बच्चे का नजदीकी रिश्तेदार बताया जा रहा है. ये फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

    रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान में US एम्बेसी में सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम करने वाले मिर्जा अली अहमद और उनकी बीवी सुराया 19 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट में घुसने की कोशिश कर रहे थे. उनके साथ उनके 5 बच्चे भी थे, जिसमें से सबसे छोटा बच्चा सोहेल 2 महीने का था. एयरपोर्ट के दरवाजे पर भारी भीड़ थी. इस बीच एक अमेरिकी सैनिक ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें मदद चाहिए.

    ‘सुबह नहीं पता था कि दोपहर को काबुल छोड़ दूंगा’, अशरफ गनी बोले- मैं मजबूर था

    ऐसे बिछड़ गया बच्चा
    मिर्जा अली ने अपने बेटे सोहेल की सलामती के लिए उसे अमेरिकी सैनिक को पकड़ा दिया. उन्होंने सोचा कि गेट के उस पार आकर उसे वापस ले लेंगे. दरवाजा सिर्फ 5 मीटर दूर था. उन्हें उसे पार करने में ज्यादा देर नहीं लगती, लेकिन तभी अंदर से भीड़ का एक जोरदार धक्का आया और गेट पर खड़े सभी लोग पीछे खिसक गए. इसी भगदड़ में बच्चा लापता हो गया. आखिर जब उन्होंने अंदर जाकर उन्होंने अपने बेटे को ढूंढ़ा, तो वह कहीं नहीं मिला. काबुल एयरपोर्ट के आसपास हालात इतने बिगड़ गए थे कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अमेरिकी सैनिकों को तब हवाई फायरिंग और आंसू गैस के गोले दागने पड़े थे.

    kabul child 2

    तस्वीर में रो रहा शख्स बच्चे का नजदीकी रिश्तेदार बताया जा रहा है. ये फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है.

    टैक्सी चालन ने बच्चे का किया पालन-पोषण
    काबुल एयरपोर्ट पर यह बच्चा 29 साल के एक टैक्सी चालक को मिला था. टैक्सी चालक इस बच्चे को अपने घर लेकर गया और पूरी देखभाल की. लगभग दो महीनों की बातचीत और मान मनौव्वल के बाद तालिबान पुलिस ने इस बच्चे को आखिरकार उसके परिवार को सौंप दिया है. इस बच्चे के रिश्तेदार ही अभी अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बचे हैं. वे बच्चे को वापस पाकर बहुत खुश हैं.

    इस देश के पास नहीं पेट्रोल-डीजल खरीदने के भी पैसे, भारत से मांगे 50 करोड़ डॉलर, जानें पूरा मामला
    अमेरिका में शरण लेकर रह रहे हैं मिर्जा
    मिर्जा ने बताया कि उन्होंने 20 से भी ज्यादा लोगों से अपने बेटे के बारे में पूछा था. एक अधिकारी ने उन्हें बताया कि हो सकता है उनके बच्चे को पहले ही रेस्क्यू प्लेन में बैठा दिया हो, क्योंकि एयरपोर्ट पर बच्चों को रखने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई थी. आखिर मिर्जा अली, उनकी बीवी और चार बच्चों को कतर की रेस्क्यू फ्लाइट में बैठाया गया, फिर यहां से उन्हें जर्मनी ले जाया गया. आखिरकार वे अमेरिका उतरे. ये पूरा परिवार फिलहाल टेक्सास में फोर्ट ब्लिस में दूसरे अफगानी रिफ्यूजियों के साथ रह रहा है और अमेरिका में कहीं सेटल होने की कोशिश कर रहा है.

    Tags: Afghanistan, Kabul Airport, Taliban

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर