• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • तालिबान ने PhD होल्डर को हटाकर BA पास को बनाया काबुल यूनिवर्सिटी का VC, 70 स्टाफ का इस्तीफा

तालिबान ने PhD होल्डर को हटाकर BA पास को बनाया काबुल यूनिवर्सिटी का VC, 70 स्टाफ का इस्तीफा

लोग एक युवा स्नातक डिग्री धारक की नियुक्ति, अनुभवी पीएचडी धारक की जगह अफगानिस्तान के पहले विश्वविद्यालय के प्रमुख के रूप में करने से नाराज हैं.

लोग एक युवा स्नातक डिग्री धारक की नियुक्ति, अनुभवी पीएचडी धारक की जगह अफगानिस्तान के पहले विश्वविद्यालय के प्रमुख के रूप में करने से नाराज हैं.

काबुल स्थित सबसे बड़े विश्वविद्यालय (Kabul University)में बीए डिग्री धारक मुहम्मद अशरफ घैरट (Ashraf Ghairat) की वीसी के रूप में नियुक्ति को लेकर सोशल मीडिया पर विरोध हो रहा है. आलोचकों ने पिछले साल घैरट के एक ट्वीट को हाइलाइट किया है जिसमें उन्होंने पत्रकारों की हत्या को सही ठहराया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    काबुल. अफगानिस्तान(Afghanistan) में कब्जा करने और सरकार बनाने के बाद तालिबान (Taliban) ने शिक्षा को लेकर अजीब फरमान दिए. अब काबुल यूनिवर्सिटी (Kabul University) में पीएचडी किए कुलपति मुहम्मद उस्मान बाबरी ( Muhammad Osman Baburi)को बर्खास्त करके उनकी जगह बीए डिग्री धारक मुहम्मद अशरफ घैरट (Ashraf Ghairat) को नया वीसी बना दिया है. तालिबान के इस फैसले के विरोध में काबुल यूनिवर्सिटी के 70 स्टाफ ने इस्तीफा दे दिया है.
    काबुल स्थित सबसे बड़े विश्वविद्यालय में घैरट की वीसी के रूप में नियुक्ति को लेकर सोशल मीडिया पर विरोध हो रहा है. आलोचकों ने पिछले साल घैरट के एक ट्वीट को हाइलाइट किया है जिसमें उन्होंने पत्रकारों की हत्या को सही ठहराया था.

    तालिबान को लेकर इमरान खान की फिर फजीहत, सार्क देशों ने ठुकराई तालिबान को शामिल करने की मांग

    खामा प्रेस न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, लोग एक युवा स्नातक डिग्री धारक की नियुक्ति, अनुभवी पीएचडी धारक की जगह अफगानिस्तान के पहले विश्वविद्यालय के प्रमुख के रूप में करने से नाराज हैं. कहा जाता है कि घैरट पिछली सरकार में शिक्षा मंत्रालय में कार्यरत थे और अफगानिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी हिस्से में आईईए के विश्वविद्यालयों के मूल्यांकन निकाय के प्रमुख थे.

    इससे पहले, तालिबान ने सोमवार को आधिकारिक तौर पर बुरहानुद्दीन रब्बानी-पूर्व अफगान राष्ट्रपति और अफगानिस्तान के दूसरे सबसे बड़े राजनीतिक दल के संस्थापक के नाम पर सरकारी विश्वविद्यालय का नाम बदल दिया था.

    अब UNGA में बोलना चाहता है तालिबान, महासचिव गुटेरेस को लिखी चिट्ठ

    बुरहानुद्दीन रब्बानी के नाम पर विश्वविद्यालय का नाम 2009 में उनके घर पर एक आत्मघाती हमले में मारे जाने के बाद रखा गया था. उच्च शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक आधिकारिक निर्देश में कहा गया है कि विश्वविद्यालय अफगानिस्तान की बौद्धिक संपदा हैं और उनका नाम राजनीतिक या जातीय नेताओं के नाम पर नहीं रखा जाना चाहिए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज