• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • तालिबान का हज्जामों को हुक्म- अफगानों का शेव न करें, ट्रिमर से नहीं काटें दाढ़ी

तालिबान का हज्जामों को हुक्म- अफगानों का शेव न करें, ट्रिमर से नहीं काटें दाढ़ी

तालिबान ने हेलमंद प्रांत में दाढ़ी और बाल को लेकर नये नियम लागू किए हैं.

तालिबान ने हेलमंद प्रांत में दाढ़ी और बाल को लेकर नये नियम लागू किए हैं.

तालिबान (Taliban) के इस्‍लामिक ओरिएंटेशन मंत्रालय ने हज्‍जामों के साथ बैठक करके यह आदेश जारी किया है. अधिकारियों ने हेलमंद प्रांत की राजधानी लश्‍कर गाह में हज्‍जामों को स्‍टालिश हेयर स्‍टाइल (Hair Style) और दाढ़ी बनाने पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जा करने के बाद तालिबान (Taliban) ने लोगों का जीना मुश्किल कर रखा है. लोगों के शेविंग करने, बाल काटने पर भी बैन लगा दिया गया है. अफगानिस्तान की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने हेलमंद प्रांत में दाढ़ी और बाल को लेकर नये नियम लागू किए हैं. नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त सजा के प्रावधान किए गये हैं.

    द फ्रंटिअर पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान के इस्‍लामिक ओरिएंटेशन मंत्रालय ने हज्‍जामों के साथ बैठक करके यह आदेश जारी किया है. अधिकारियों ने हेलमंद प्रांत की राजधानी लश्‍कर गाह में हज्‍जामों को स्‍टालिश हेयर स्‍टाइल और दाढ़ी बनाने पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है. इस आदेश को सोशल मीडिया में जारी किया गया है. इसमें यह भी कहा गया है कि सैलून के अंदर संगीत या अन्‍य धार्मिक गीत न बजाए जाएं.

    पर्दे और जाली के साथ लड़कियों के लिए अलग शिफ्ट, तालिबान के आगे बेबस अफगान विश्वविद्यालय

    ये कानून वही हैं जो उसने अपने वर्ष 1996 से लेकर 2001 के शासन काल के दौरान लागू किए थे. ये नियम तालिबानी शरिया कानून पर आधारित हैं. तालिबान ने यह आदेश ऐसे समय पर दिया है जब देश में बड़े पैमाने पर मानवाधिकारों के उल्‍लंघन की खबरें आ रही हैं.

    अखबार ने आगे कहा है, ‘इस्लामिक ओरिएंटेशन मंत्रालय के अधिकारियों ने प्रांतीय राजधानी लश्कर गाह में पुरुषों के हज्जामख़ाना सैलून के प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक में बालों को लेकर नये नियम बनाए हैं. जिसमें कहा गया है कि सभी लोगों को अपने बाल के स्टाइल साधारण रखने होंगे. दाढ़ी बढ़ाने के लिए सैलून वाले ट्रिमर का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.’

    तालिबान ने पिछले हफ्ते हेरात शहर में कथित किडनैपिंग के आरोप में चार लोगों को पहले चौराहे पर सैकड़ों लोगों के सामने मार दिया था. फिर उनकी लाशों को चौराहे पर क्रेन से बांधकर लटका दिया. जिसकी तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

    कई अफगानों की मौत का जिम्मेदार आतंकी बना काबुल यूनिवर्सिटी का VC, अलकायदा और लश्कर से भी है अच्छा रिश्ता

    1990 के दशक में लौटा तालिबान
    जब से तालिबान ने 15 अगस्त को काबुल पर कब्जा किया और अफगानिस्तान पर राज कायम किया है, तब से अफगानिस्तान जैसे 1990 के दशक में लौट गया है. तालिबान ने पश्चिमी देशों के द्वारा बनाए गये टेक्नोलॉजी को भले ही जहर उगलते उगलते हुए भी स्वीकार कर लिया हो, लेकिन उसकी कट्टरपंथी सोच अब भी वही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज