होम /न्यूज /दुनिया /घर से भागकर बनी पोर्न स्टार, परिवार से ऐसी नफरत कि 30 साल से नहीं की बात

घर से भागकर बनी पोर्न स्टार, परिवार से ऐसी नफरत कि 30 साल से नहीं की बात

यासमीना ने इस्लाम को त्याग दिया और नास्तिक बन गईं, जिसके बाद उन्होंने पॉर्न इंडस्ट्री में कदम रखा.

यासमीना ने इस्लाम को त्याग दिया और नास्तिक बन गईं, जिसके बाद उन्होंने पॉर्न इंडस्ट्री में कदम रखा.

यासमीना अली ने जबरन शादी करने से इनकार किया और अपने माता-पिता से कहा कि वह पॉर्न इंडस्ट्री (Porn industry) में काम कर ...अधिक पढ़ें

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) की एडल्ट स्टार यासमीना अली (Yasmeena Ali) इन दिनों खूब चर्चा में है. हाल ही में उन्होंने अपने एडल्ट स्टार बनने को लेकर तालिबान (Taliban) को जिम्मेदार ठहराते हुए कई चौंकाने वाले खुलासे किए. अब उन्होंने बताया कि वह कैसे इस इंडस्ट्री में आईं और अपने परिवार से क्यों नफरत करती हैं.
    यासमीना अली ने जबरन शादी करने से इनकार किया और अपने माता-पिता से कहा कि वह पॉर्न इंडस्ट्री (Porn industry) में काम करना चाहती हैं. 1990 के दशक में तालिबान के सत्ता में आने के बाद यासमीना अली (Yasmeena Ali) और उनके परिवार ने अफगानिस्तान छोड़ दिया. वे ब्रिटेन (Britain) चले गए जहां यासमीना ने शिक्षा हासिल की. उनके माता-पिता चाहते थे कि वह 19 साल की उम्र में दुल्हन बन जाएं लेकिन यासमीना को यह मंजूर नहीं था.

    तालिबान ने स्कूल जाने से रोका, 9 साल में देश छोड़ा और अब बनी फेमस एडल्ट स्टार

    फिर त्यागा इस्लाम, बनीं नास्तिक
    यासमीना ने इस्लाम को त्याग दिया और नास्तिक बन गईं, जिसके बाद उन्होंने पॉर्न इंडस्ट्री में कदम रखा. डेली स्टार से बात करते हुए 28 साल की यासमीना ने बताया कि घर छोड़ने के बाद से उन्होंने अपने परिवार से बात नहीं की है. उन्होंने कहा, ‘मैं 19 साल की उम्र में भाग गई थी, क्योंकि वे मेरी मर्जी के खिलाफ शादी करवाना चाहते हैं. उन्होंने यह जानने की कोशिश नहीं की कि मैं क्या चाहती हूं.’ उन्होंने बताया, ‘मैंने उनमें (माता-पिता) से किसी से भी बात नहीं की है और न ही मेरा उनसे फिर कभी बात करने का इरादा है.’

    ‘मुझे परवाह नहीं मेरे बारे में क्या सोचते हैं’
    यासमीना ने कहती हैं, ‘वह चैप्टर अब खत्म हो चुका है, क्योंकि परिवार का मतलब साथ देना और हिम्मत बढ़ाना होता है. हमारे मूल्य एक जैसे नहीं हैं और मुझे इस बात की परवाह नहीं कि वे मेरे पॉर्न इंडस्ट्री में जाने के बारे में क्या सोचते हैं. मुझे यकीन है कि वे मेरे बारे में बहुत बुरा सोचते हैं.’ तालिबान ने 1990 के दशक में जब काबुल पर कब्जा किया तब यासमीना अली सड़क के किनारे खड़ी एक छोटी सी खौफजदा बच्ची थी.

    अफगानिस्तान: तालिबान के सामने अमेरिकी नागरिक ने कबूल किया इस्लाम

    अफगानिस्तान में देखी तालिबान की हिंसा
    यासमीना ने अफगानिस्तान में महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों के खिलाफ हिंसा देखी जिसके बाद वह पढ़ाई के लिए ब्रिटेन चली गईं. अफगानिस्तान के लिए लगभग 30 साल का समय किसी सपने की तरह बीता और तालिबान एक बार फिर सत्ता में वापस आ गया, लेकिन अब यासमीना मासूम बच्ची के नहीं है बल्कि एक शक्तिशाली महिला और अफगान कार्यकर्ता बन चुकी हैं. यासमीना अफगानिस्तान की ‘नंबर वन पॉर्न स्टार’ के रूप ने जानी जाती हैं.

    Tags: Afghanistan, Afghanistan Taliban conflict

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें