चीन में बच्चे कम पैदा होने से अर्थव्यवस्था पर मंडराया खतरा, अब बदेलगा कानून!

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा कि वह जन्म क्षमता को अधिक बढ़ाने के लिए अनुसंधान करेगा.   (File Pic)

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा कि वह जन्म क्षमता को अधिक बढ़ाने के लिए अनुसंधान करेगा. (File Pic)

China: चीन ने दशकों तक अपनी बढ़ती अर्थव्यवस्था के लिए कम संसाधनों के संरक्षण के नाम पर अतिरिक्त बच्चो के जन्म पर कड़ा नियंत्रण लागू रखा.

  • Share this:

बीजिंग. चीन एक-बच्चे की अपनी विवादित नीति को समाप्त करने के चार साल से अधिक समय बाद देश (china birth rate) में कम होती जन्मदर को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त उपायों पर विचार कर रहा है. चीन ने दशकों तक अपनी बढ़ती अर्थव्यवस्था के लिए कम संसाधनों के संरक्षण के नाम पर अतिरिक्त बच्चो के जन्म पर कड़ा नियंत्रण लागू रखा.

हालांकि गिरती जन्मदर को अब आर्थिक प्रगति और सामाजिक स्थिरता के लिए एक बड़े खतरे के रूप में देखा जा रहा है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा कि वह जन्म क्षमता को अधिक बढ़ाने के लिए अनुसंधान करेगा. आयोग ने कहा कि पहल के तहत सबसे पहले देश के पूर्ववर्ती प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र उत्तरपूर्व पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा जहां जनसंख्या में एक बड़ी कमी देखी गई है क्योंकि युवा और परिवार बेहतर अवसरों के लिए अन्यत्र प्रस्थान कर गए हैं.

ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: आतंकी हमले में 2 पुलिसकर्मी शहीद, CCTV में कैद हुआ खौफनाक मंजर

Youtube Video

2019 से जनसंख्या में देखी गई कमी

तीन प्रांतों लिओनिंग, जिलिन और हेइलोंगजियांग वाले इस क्षेत्र में लगातार सातवें वर्ष 2019 में जनसंख्या में कमी देखी गई. चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के मुताबिक़, 2019 में जन्म दर 10.48 प्रति एक हज़ार रही जो कि 1949 के बाद से सबसे कम है. साल 2019 में 1 करोड़ 46 लाख 50 हज़ार बच्चों ने जन्म लिया, जो पहले के मुक़ाबले 5 लाख 80 हज़ार कम थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज