Home /News /world /

IS की चेतावनी-बगदाद हो या खोरासान... हर जगह शियाओं का करेंगे कत्लेआम

IS की चेतावनी-बगदाद हो या खोरासान... हर जगह शियाओं का करेंगे कत्लेआम

 कंधार प्रांत में शुक्रवार को एक शिया मस्जिद में हुए एक शक्तिशाली विस्फोट के बाद यह चेतावनी दी गई. (AP)

कंधार प्रांत में शुक्रवार को एक शिया मस्जिद में हुए एक शक्तिशाली विस्फोट के बाद यह चेतावनी दी गई. (AP)

अफगानिस्तान की तकरीबन 10% आबादी शिया मुसलमान है. इनमें से अधिकतर हज़ारा समुदाय से हैं जो कि देश का तीसरा सबसे बड़ा जातीय समूह है. यह समूह बरसों से अफगानिस्तान समेत पड़ोसी देश पाकिस्तान में भेदभाव और उत्पीड़न झेलता रहा है.

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद दूसरे आतंकी संगठन भी एक्टिव हो गए हैं. इसमें आईएसआईएस (Islamic State) प्रमुख तौर पर शामिल है. आईएसआईएस ने खुलेआम शिया समुदाय के कत्लेआम की चुनौती दी है. रविवार को इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया (आईएसआईएस) ने एक बयान में कहा, ‘बगदाद या खोरासान… शिया मुसलमान जहां भी होंगे, उन्हें ढूंढकर मारा जाएगा. शिया मुसलमान खतरनाक हैं और उन्हें हर जगह निशाना बनाया जाएगा.’

    अफगानिस्तान के कंधार प्रांत में शुक्रवार को एक शिया मस्जिद में हुए एक शक्तिशाली विस्फोट के बाद यह चेतावनी दी गई, जिसमें 60 से अधिक लोगों की मौत हो गई. विस्फोट में 80 से अधिक लोग घायल हो गए. खामा प्रेस के अनुसार, तालिबान द्वारा देश पर नियंत्रण करने के बाद से आईएसआईएस-खुरासान अब अफगानिस्तान में शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा बना हुआ है.

    आईएस ने ली अफगानिस्तान में शिया मस्जिद में ब्लास्ट की जिम्मेदारी, बताया कैसे दिया अंजाम

    खामा प्रेस ने अपनी रिपोर्ट में ये जानकारी दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, आतंकी समूह के साप्ताहिक अल-नबा ने यह चेतावनी प्रकाशित की. चेतावनी में आगे लिखा गया है कि शिया मुसलमानों को उनके घरों और केंद्रों पर निशाना बनाया जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक, खास तौर पर अफगानिस्तान में रहने वाले शिया मुसलमानों को खतरा है.

    इससे पहले 8 अक्टूबर को अफगानिस्तान के कुंदुज में एक शिया मस्जिद पर हुए आतंकवादी हमले में 100 से अधिक लोग मारे गए और कई घायल हो गए. उत्तरी अफगानिस्तान के कुंदुज में सैयद अबाद मस्जिद में उस समय घातक विस्फोट हुआ जब स्थानीय निवासी शुक्रवार की नमाज के लिए मस्जिद में शामिल हुए.

    बांग्लादेश: इस्कॉन मंदिर में भीड़ ने की श्रद्धालु की पीट-पीटकर हत्या, सामने आया Video

    अफगानिस्तान की तकरीबन 10% आबादी शिया मुसलमान है. इनमें से अधिकतर हज़ारा समुदाय से हैं जो कि देश का तीसरा सबसे बड़ा जातीय समूह है. यह समूह बरसों से अफगानिस्तान समेत पड़ोसी देश पाकिस्तान में भेदभाव और उत्पीड़न झेलता रहा है. सुन्नी मुसलमान चरमपंथी लगातार शिया मुसलमानों को पहले भी निशाना बनाते रहे हैं और वे उन्हें अधर्मी मानते हैं.

    Tags: Afghanistan Crisis, Afghanistan Taliban conflict

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर