होम /न्यूज /दुनिया /अफगानिस्तान का हक 9/11 हमले के पीड़ितों को बांटेगा अमेरिका, भड़का तालिबान

अफगानिस्तान का हक 9/11 हमले के पीड़ितों को बांटेगा अमेरिका, भड़का तालिबान

अगस्त में तालिबान द्वारा देश पर नियंत्रण करने के बाद अफगानिस्तान को अंतरराष्ट्रीय वित्त पोषण रोक दिया गया था.

अगस्त में तालिबान द्वारा देश पर नियंत्रण करने के बाद अफगानिस्तान को अंतरराष्ट्रीय वित्त पोषण रोक दिया गया था.

Afghanistan Humanitarian Help: अगस्त में तालिबान द्वारा देश पर नियंत्रण करने के बाद अफगानिस्तान को अंतरराष्ट्रीय वित्त ...अधिक पढ़ें

    काबुल. तालिबान ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (US President Joe Biden) के उस फैसले पर प्रतिक्रिया दी है, जिसके तहत अमेरिका अपने यहां जब्त 7 अरब डॉलर की अफगान संपत्ति को अब मुक्त कर देगा. ये पैसा दो हिस्सों में बांटा जाएगा, फिर इसका एक हिस्सा गरीबी से त्रस्त अफगानिस्तान के लिए मानवीय सहायता (Afghanistan Humanitarian Help) और दूसरा हिस्सा 11 सितंबर के पीड़ितों की मदद के लिए दिया जाएगा.

    स्थानीय खामा प्रेस के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र के लिए तालिबान (Taliban) के नामित राजदूत सुहैल शाहीन ने कहा कि यह पैसा केवल अफगानिस्तान के लोगों का है. उसने अपनी ट्विटर पोस्ट में कहा, ‘द अफगानिस्तान बैंक-अफगानिस्तान सेंट्रल बैंक का रिजर्व, सरकारों और गुटों से संबंधित नहीं है, बल्कि यह अफगानिस्तान के लोगों की संपत्ति है. इसका उपयोग केवल मौद्रिक नीति के कार्यान्वयन, व्यापार की सुविधा और देश की वित्तीय प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है.’ उसने कहा कि इनमें से किसी भी काम के लिए पैसे का इस्तेमाल नहीं किया गया है. अमेरिकी बैंकों में अब भी 3.5 अरब डॉलर फ्रीज हैं.

    हिजाब पर तालिबान का फरमान- पर्दे में रहेंगी महिलाएं तो ही मिलेगा शिक्षा-रोजगार, दूसरे देश न दें दखल
    इसे लेकर शाहीन ने आलोचना की और कहा कि किसी दूसरे उद्देश्य के लिए पैसे को फ्रीज करना और बांटना अन्याय है और यह अफगानिस्तान के लोगों को स्वीकार नहीं है. अमेरिका धनराशि तुरंत जारी नहीं करेगा. लेकिन बाइडन के आदेश में बैंकों से अफगान राहत और बुनियादी जरूरतों के लिए मानवीय समूहों के माध्यम से वितरण के लिए एक ट्रस्ट फंड को जब्त राशि का 3.5 अरब डॉलर प्रदान करने का आह्वान किया गया है. अन्य 3.5 अरब डॉलर अमेरिका में आतंकवाद के शिकार लोगों के मुकदमों के दौरान हुए खर्चे की भरपाई के लिए दिए जाएंगे.

    श्रीलंका का आधार बनाएगा भारत, 11 साल से अटका पड़ा है डिजिटल आईकार्ड प्रोजेक्ट

    अमेरिका में जब्त है अधिकतर संपत्ति
    अगस्त में तालिबान द्वारा देश पर नियंत्रण करने के बाद अफगानिस्तान को अंतरराष्ट्रीय वित्त पोषण रोक दिया गया था और विदेशों में देश की अरबों डॉलर की संपत्ति ज्यादातर अमेरिका में जब्त कर दी गई थी. व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि यह आदेश ‘अफगानिस्तान के लोगों की इस धन तक पहुंच बनाने के लिए एक रास्ता प्रदान करने के मकसद से दिया गया है और इसे तालिबान के हाथों में पहुंचने से दूर रखा गया है.’ (एजेंसी इनपुट के साथ)

    Tags: Afghanistan, Afghanistan Crisis, Afghanistan Taliban conflict, Joe Biden

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें