तानाशाह किम जोंग उन ने चेताया- उत्तर कोरिया में 1990 के अकाल जैसे हालात

तानाशाह किम जोंग उन (फाइल फोटो)

तानाशाह किम जोंग उन (फाइल फोटो)

किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने पहली बार उत्तर कोरिया (North Korea) के हालात की तुलना 1990 के अकाल से करते हुए बेहद गंभीर आर्थिक कठिनाइयों से लड़ने के लिए कठिन मोर्चा छेड़ने का आह्वान किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 1:08 PM IST
  • Share this:
पेंगयोंग. उत्तर कोरिया (North Korea) के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने पहली बार देश के हालात की तुलना 1990 के अकाल से करते हुए बेहद गंभीर आर्थिक कठिनाइयों से लड़ने के लिए कठिन मोर्चा छेड़ने का आह्वान किया. तानाशाह किम ने इससे पहले कहा था कि उनका देश कोरोना वायरस महामारी, अमेरिकी प्रतिबंधों और प्राकृतिक आपदाओं सहित कई कारकों के चलते सबसे खराब स्थिति का सामना कर रहा है.

हालांकि, यह पहली बार है जब उन्होंने सार्वजनिक रूप से वर्तमान हालात की तुलना भीषण अकाल से की, जब लाखों लोग मारे गए थे. उत्तर कोरिया की निगरानी करने वाले समूहों ने फिलहाल बड़े पैमाने पर भुखमरी या मानवीय आपदा के संकेत मिलने की बात नहीं कही है, लेकिन किम की टिप्पणियों से लगता है कि वर्तमान हालात गंभीर हैं, जो उनके नौ साल के शासन में सबसे बड़ी परीक्षा है.

ये भी पढ़ें: चीन में Corona का खौफ, अधिकांश युवा मौत के डर से लिखने लगे अपनी वसीयत

कोरियाई सेंट्रल न्यूज के अनुसार किम ने गुरुवार को सत्तारूढ़ पार्टी के सदस्यों से कहा कि हमारे सामने कई बाधाएं और कठिनाइयां हैं. मैंने अपने लोगों को राहत देने के लिए डब्ल्यूपीके (वर्कर्स पार्टी ऑफ कोरिया) से सभी स्तरों पर अपनी केंद्रीय समिति और पार्टी के सेल सचिवों की राय लेने और एक कठिन मोर्चे के लिए तैयार रहने के लिए कहा है. किम का यह भाषण सत्ता पक्ष के हजारों जमीनी सदस्यों के साथ एक पार्टी की बैठक के समापन समारोह में आया, जिसे सेल सचिव कहा जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज