उत्तर कोरिया: किम जोंग उन की बहन ने दिखाई क्रूरता, शीर्ष अधिकारी को गोलियों से भुनवाया

किम यो जोंग (Reuters)

किम यो जोंग (Reuters)

किम यो जोंग (Kim Yo Jong) ने उत्‍तर कोरिया (North Korea) के एक शीर्ष अधिकारी को गोलियों से भुनवा द‍िया है. बताया जा रहा है कि यह अधिकारी पार्टी व‍िरोधी गतिविध‍ियों में ल‍िप्‍त था. अभी कई अधिकारियों की जांच की जा रही है.

  • Share this:

प्‍योंगयांग. उत्‍तर कोरिया (North Korea) के तानाशाह किम जोंग उन की बेहद निरंकुश बहन किम यो जोंग (Kim Yo Jong) ने देश में 'सफाई अभियान' शुरू क‍िया है और एक शीर्ष अधिकारी की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई है. किम यो जोंग के इस क्रूर आदेश से उत्‍तर कोरिया के अधिकारियों में खौफ का माहौल है. बताया जा रहा है कि किम यो जोंग ने सरकारी एजेंस‍ियों में सफाई अभियान चलाने के लिए कई अधिकारियों को गोली मारने का आदेश दिया है. रेडियो फ्री एशिया ने अपनी रिपोर्ट में दो उत्‍तर कोरियाई अधिकारियों के हवाले से कहा, 'प्‍योंगयांग में एक शीर्ष अध‍िकारी को गोली मारने की खबर अधिकारियों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है. हम नहीं जानते हैं कि किस अधिकारी को मारा गया है. हालांकि हमें अपने शीर्ष अधिकारी से पता चला है कि आरोपी अधिकारी को किम यो जोंग के आधार पर गोली मारा गया है.'

सूत्रों ने कहा कि पिछले साल नवंबर महीने में सोने की तस्‍करी के बारे में सेंट्रल पार्टी को बताया गया था. इसके बाद दिसंबर महीने में देश के बॉर्डर सिक्‍यॉरिटी कमांड के कुल 10 सुरक्षा अधिकारियों को गोलियों से भून दिया गया था. इसके अलावा नौ अन्‍य लोगों को आजीवन जेल की सजा दी गई थी. किम यो जोंग उन लोगों के आंकड़े इकट्ठा कर रही है जो यह बताता है कि लोग पार्टी की सत्‍ता को चुनौती दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें: साउथ कोरिया में जुलाई से मास्क पहनना जरूरी नहीं, इस वजह से लिया गया फैसला...

उत्‍तर कोरियाई सूत्रों ने बताया कि किम यो जोंग ने अपने भाई तानाशाह किम जोंग उन को इस बारे में बताया था. पार्टी के खिलाफ विद्रोह करने के लिए कई अधिकारियों को मौत के घाट उतार दिया गया है. उन्‍होंने यह भी कहा कि किम यो जोंग के खिलाफ विरोध भी बहुत तेजी से बढ़ रहा है. सूत्रों ने यह भी कहा कि सेंट्रल पार्टी किम यो जोंग के आदेश पर रयांगगांग प्रांत के सभी अधिकारियों की समीक्षा कर रही है ताकि विद्रोहियों का पता लगाया जा सके. कई लोगों को राजनीतिक कैदियों के लिए बने शिविरों में डाल दिया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज