म्यांमार में तख्तापलट के बाद के हालात बयां करते-करते रो पड़े UN में स्थायी प्रतिनिधि, किया थ्री फिंगर सैल्यूट

क्याव मो तुन के थ्री फिंगर सैल्यूट की चर्चा हर तरफ हो रही है

क्याव मो तुन के थ्री फिंगर सैल्यूट की चर्चा हर तरफ हो रही है

Myanmar Military Coup: संयुक्त राष्ट्र में म्यांमार के स्थायी प्रतिनिधि क्याव मो तुन (Kyaw Moe Tun) के थ्री फिंगर सैल्यूट की चर्चा हर तरफ हो रही है. बता दें कि तीन उंगलियों वाला ये सैल्यूट वहां प्रतिरोध का एक प्रतीक बन चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 11:17 AM IST
  • Share this:
यांगून. म्यांमार में सैन्य तख्तापलट (Myanmar Military Coup ) का दुनियाभर में विरोध हो रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वहां तख्तापलट का विरोध करने वालों को सेना लगातार डरा-धमका रही है. सेना ने ऐलान किया है कि वो एक साल के लिए आपातकाल की स्थिति के तहत सत्ता चलायेगी, और फिर चुनाव होगा. इस बीच संयुक्त राष्ट्र में म्यांमार के स्थायी प्रतिनिधि क्याव मो तुन (Kyaw Moe Tun) ने म्यांमार में सैन्य तख्तापलट और वहां लोगों पर हो रहे अत्याचार के मुद्दे को उठाया है. इसी दौरान देश के हालात को बंया करते-करते वो रो पड़े. आखिर में उन्होंने तीन अंगूलियों से चेयर को सैल्यूट किया.

क्याव मो तुन ने सबसे पहले म्यांमार में हो रहे अत्याचार की बात अंग्रेजी में कही, इसके बाद उन्होंने कहा को वो कुछ शब्द अपने स्थानी भाषा मे कहना चाहते हैं. इसी दौरान बोलते-बोलते वो बेहद भुवक हो गए. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि लोकतंत्र के समर्थन में वो म्यांमार के साथ खड़े रहें.





थ्री फिंगर सैल्यूट की चर्चा
क्याव मो तुन के थ्री फिंगर सैल्यूट की चर्चा हर तरफ हो रही है. बता दें कि तीन उंगलियों वाला ये सैल्यूट वहां प्रतिरोध का एक प्रतीक बन चुका है. अक्टूबर 2020 में थाईलैंड में राजतंत्र व्यवस्था के खिलाफ जो प्रदर्शन हुए थे, वहां भी इस प्रतीक को देखा गया था. म्यांमार में सबसे पहले इस तरह का सैल्यूट तख्तापलट का विरोध करने के लिए मेडिकल कार्यकर्ताओं ने इस्तेमाल किया था.

ये भी पढ़ें:- बड़ी बेटी के इलाज के नहीं थे पैसे तो परिवार ने 10 हजार में छोटी बेटी को बेचा

म्यांमार में तख्तापलट
म्यांमार में चुनी हुई आंग सान सू ची की सरकार को 1 फरवरी को गिराकर सेना ने ख्तापलट किया, तबसे ही पूरे देश में नागरिक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. लोकतंत्र की बहाली की मांग को लेकर लगातार प्रदर्शन किए जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज