नेपाल: शेर बहादुर देउबा सरकार ने जीता विश्वासमत, ओली की रणनीति ऐसे हुई फेल

शेर बहादुर देउबा पांचवीं बार पीएम बने हैं (AP)

देउबा (Sher Bahadur Deuba) ने 13 जुलाई को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी. इससे एक दिन पहले ही नेपाल के सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस चोलेंद्र शमशेर राणा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा को बहाल करने का आदेश दिया था.

  • Share this:
    काठमांडू. नेपाल के नए प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba) ने रविवार को बहाल हुए संसद के निचले सदन में विश्वास मत (Trust Vote) हासिल कर लिया. 275 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में देउबा सरकार के पक्ष में 165 मत पड़े, जबकि 83 सांसदों विरोध में मत दिया. नेपाल के 249 सांसदों ने मतदान प्रक्रिया में हिस्सा लिया. इस दौरान एक सांसद उपस्थित रहते हुए तटस्थ बना रहा. देउबा को संसद का विश्वास हासिल करने के लिए कुल 136 मतों की जरूरत थी.

    सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर देउबा ने ली थी शपथ
    देउबा ने 13 जुलाई को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी. इससे एक दिन पहले ही नेपाल के सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस चोलेंद्र शमशेर राणा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा को बहाल करने का आदेश दिया था. इसे पांच महीने में दूसरी बार 22 मई को तत्कालीन प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की अनुशंसा पर राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने भंग कर दिया था. अदालत ने फैसले को असंवैधानिक करार दिया था.

    नेपाल में केपी ओली को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने शेर बहादुर को पीएम बनाने का दिया आदेश



    ओली की रणनीति नहीं आई काम
    पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की पार्टी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी-यूएमएल ने मतदान के दौरान देउबा सरकार के खिलाफ मतदान किया. बताया जा रहा है कि पार्टी के असंतुष्ट नेता माधव कुमार नेपाल के करीबी नेताओं ने सरकार के पक्ष में मतदान किया है. माधव कुमार नेपाल के साथ यूएमएल के 23 सांसद हैं जिन्होंने कुछ महीने पहले राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के समक्ष देउबा का समर्थन किया था.

    शेर बहादुर देउबा रिकॉर्ड 5वीं बार बने नेपाल के प्रधानमंत्री, 30 दिनों के अंदर हासिल करना होगा विश्वास मत

    इन मंत्रियों ने ली थी शपथ
    देउबा के साथ चार नए मंत्रियों ने भी शपथ ली थी, जिसमें नेपाली कांग्रेस (नेकां) और सीपीएन-माओइस्ट सेंटर के दो-दो सदस्य शामिल हैं. नेपाली कांग्रेस के बालकृष्ण खंड और ज्ञानेंद्र बहादुर कार्की ने क्रमश गृहमंत्री और कानून तथा संसदीय कार्य के मंत्री के रूप में शपथ ली. माओइस्ट सेंटर से पम्फा भुषाल और जनार्दन शर्मा को क्रमश: ऊर्जा मंत्री और वित्त मंत्री नियुक्त किया गया है. इस मौके पर प्रधान न्यायाधीश राणा, सीपीएन-माओइस्ट सेंटर के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' और सीपीएन-यूएमएल के वरिष्ठ नेता माधव कुमार नेपाल भी मौजूद थे. (एजेंसी इनपुट)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.