Home /News /world /

अफगानिस्तान में सिखों को धमकी- सुन्नी इस्लाम अपनाओ या देश से भागो: रिपोर्ट में दावा

अफगानिस्तान में सिखों को धमकी- सुन्नी इस्लाम अपनाओ या देश से भागो: रिपोर्ट में दावा

अफगान सिख संकट में हैं. (FILE PHOTO)

अफगान सिख संकट में हैं. (FILE PHOTO)

कट्‌टरपंथी संगठन (Fundamentalist groups) उन्हें सुन्नी इस्लाम (Sunni islam) अपनाने या फिर देश छोड़कर भाग जाने को मजबूर कर रहे हैं. एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट में यह दावा किया गया हैं.

    काबुल. अफगानिस्तान पर तालिबान (Taliban in Afghanistan) के कब्जे के बाद वहां अल्पसंख्यक समुदाय (Minorities in afghanistan) संकट में है. उन्हें जान से मारने और धर्म परिवर्तन करने की धमकियां दी जा रही हैं. खबर है कि अफगान सिखों (Sikh in Afghanistan) के अस्तित्व पर भी संकट है. कट्‌टरपंथी संगठन (Fundamentalist groups) उन्हें सुन्नी इस्लाम (Sunni islam) अपनाने या फिर देश छोड़कर भाग जाने को मजबूर कर रहे हैं. एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट में यह दावा किया गया हैं.्र

    रिपोर्ट में क्या गया?
    इंटरनेशनल फोरम फॉर राइट्स एंड सिक्योरिटी (आईएफएफआरएएस) की रिपोर्ट में कहा गया, अफगानिस्तान में सदियों से रह रहे सिखों की आबादी एक जमाने में दसियों हजार थी, लेकिन बीते कुछ वर्षों में कट्टरता के चलते बढ़ी धार्मिक हिंसा, हत्या, व्यवस्थागत भेदभाव और देश छोड़कर जाने के कारण समुदाय बर्बाद हो गया है.

    देश में अधिकांश सिख काबुल में तो कुछ गजनी और नंगरहार प्रांतों में रहते हैं. यह रिपोर्ट ऐसे समय पर आई है, जब कुछ दिनों पहले ही काबुल के कार्त-ए-परवान जिले में एक गुरुद्वारे में घुसे 15 से 20 आतंकवादियों ने सुरक्षाकर्मियों को बंधक बना दिया था. अफगानिस्तान में सिख अक्सर इस तरह के हमलों और हिंसा का सामना करते हैं.

    समुदाय पर लगातार हो रहे हैं हमले
    अफगानिस्तान में कई सिख विरोधी हिंसक हमले हो चुके हैं. आतंकवादियों ने पिछले साल जून में एक अफगान सिख नेता का अपहरण कर लिया था. लेकिन इस बारे में अधिक खुलासा नहीं हो सका. मार्च 2019 में काबुल में एक और सिख व्यक्ति का अपहरण कर हत्या कर दी गई थी.

    वहीं, कंधार में अज्ञात बंदूकधारी ने एक सिख को गोली मार दी थी. आईएफएफआरएएस का कहना है कि 26 मार्च 2020 को काबुल के एक गुरुद्वारे में तालिबान द्वारा समुदाय के नरसंहार के बाद से ही बड़ी संख्या में सिख भारत जा रहे हैं. फोरम का कहना है कि सिख सुन्नी संप्रदाय की कट्टर विचारधारा के खिलाफ हैं इसलिए उन्हें या तो जबरन मुस्लिम बना दिया जाता है या फिर उनकी हत्या कर दी जाती है.

    रिपोर्ट का कहना है कि अफगानिस्तान का पूर्व शासन अल्पसंख्यक सिखों के घर बचाने और उन्हें सुरक्षा देने में नाकाम रहा है. अब कट्टरपंथी विचारधारा वाली तालिबान सरकार भी सिखों को पनपने नहीं देगी.

    Tags: Afghanistan, Afghanistan latest news, Afghanistan Taliban conflict, Afghanistan Terrorism, Afghanistan-Taliban Fighting, Hindu-Sikh Community, Islam, Islam religion, Islamic Law, Islamic Terrorism, Sikh Community

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर