अब ताइवान ने दी चीन को धमकी, हथियार और लड़ाकू विमानों के वीडियो शेयर करते हुए लिखा- करारा जवाब मिलेगा

अब ताइवान ने दी चीन को धमकी, हथियार और लड़ाकू विमानों के वीडियो शेयर करते हुए लिखा- करारा जवाब मिलेगा
सांकेतिक तस्वीर

Tiwan Vs China: ताइवान और अमेरिका के बीच 62 अरब डॉलर के F-16 फाइटर जेट खरीदने का सौदा हुआ है. चीन की सरकारी मीडिया ने चेतावनी दी है कि ताइवान अगर इस डील से पीछे नहीं हटता तो पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) मिलिट्री ऐक्शन के लिए भी पूरी तरह तैयार है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2020, 9:08 AM IST
  • Share this:
ताइपेई. ताइवान (Taiwan)  और चीन (China) के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है. अब ताइवान ने चीन को धमकी दी है. वहां के रक्षा मंत्री ने एक वीडियो शेयर करते हुए चीन से कहा है कि वो लड़ाई के लिए उकसाएंगे नहीं, लेकिन अगर चीन ने आगे बढ़ कर कुछ किया तो उन्हें करारा जवाब दिया जाएगा. बता दें कि दो दिन पहले अमेरिका (US) और ताइवान  के बीच F-16V फाइटर जेट डील को लेकर चीन ने ताइवान को तबाह करने की धमकी दी थी.

वीडियो शेयर करते हुए धमकी
ताइवान के रक्षा मंत्री ने गुरुवार को देर रात एक वीडियो शेयर किया. इस वीडियो में देखा जा सकते है कि ताइवान की सेना मिलिट्री ड्रिल कर रही है. 1 मिनट 18 सकेंड के इस वीडियो में ढेर सारे हथियार, मिसाइल, रॉकेट और लड़ाकू विमान नज़र आ रहे हैं. वीडियो के साथ मंत्री ने लिखा है कि ताइवान को कमज़ोर नहीं समझा जाए और दुश्मनों को करार जवाब मिलेगा.





इस डील को लेकर बौखलाया चीन
बता दें कि ताइवान और अमेरिका के बीच 62 अरब डॉलर के F-16 फाइटर जेट खरीदने का सौदा हुआ है. इस सौदे के तहत ताइवान शुरू में 90 फाइटर जेट खरीदेगा जो अत्‍याधुनिक तकनीकों और हथियारों से लैस होंगे. ये सौदा करीब 10 साल में पूरा होगा लेकिन कुछ विमान उसे अभी मिल जाएंगे. चीन की सरकारी मीडिया ने चेतावनी दी है कि ताइवान अगर इस डील से पीछे नहीं हटता तो पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) मिलिट्री ऐक्शन के लिए भी पूरी तरह तैयार है. चीन ने खुली धमकी दी है कि उसके फाइटर जेट ताइवान की एयरफील्ड को तबाह कर देंगे.

चीन-ताइवान के रिश्ते
चीन ने ताइवान को हमेशा से अपने ऐसे प्रांत के रूप में देखा है जो उससे अलग हो गया. चीन मानता रहा है कि भविष्य में ताइवान चीन का हिस्सा बन जाएगा. जबकि ताइवान की एक बड़ी आबादी अपने आपको एक अलग देश के रूप में देखना चाहती है. यही वजह रही है दोनों के बीच तनाव की. हाल में चीन ने इस द्वीप पर आर्थिक, सैनिक और कूटनीतिक दबाव भी बढ़ा दिया है. चीन का मानना है कि ताइवान उसका क्षेत्र है. चीन का कहना है कि ज़रूरत पड़ने पर ताक़त के ज़ोर उस पर कब्ज़ा किया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज