• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • आर्थिक मदद मिलने के बाद तालिबान ने दुनिया को कहा शुक्रिया, लेकिन अमेरिका को मार दिया ताना

आर्थिक मदद मिलने के बाद तालिबान ने दुनिया को कहा शुक्रिया, लेकिन अमेरिका को मार दिया ताना

अफगानिस्तान पर तालिबान के नियंत्रण के बाद तेजी से हालात बदले हैं (AP)

अफगानिस्तान पर तालिबान के नियंत्रण के बाद तेजी से हालात बदले हैं (AP)

तालिबान ने इस आपातकालीन मदद (Emergency aid) के लिए दुनिया को धन्यवाद कहा है. लेकिन इस मौकै पर उसने अमेरिका (America) को नसीहत भी दे डाली.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) में हालात खराब न हों, इसके लिए उसे दुनियाभर से करोड़ों डॉलर की आर्थिक मदद (Pledging hundreds of millions of dollars) मिलना शुरू हो गई है. तालिबान ने इस आपातकालीन मदद (Emergency aid) के लिए दुनिया को धन्यवाद कहा है. लेकिन इस मौकै पर उसने अमेरिका (America) को नसीहत भी दे डाली. तालिबान (Taliban) ने अमेरिका से गरीब देशों के प्रति बड़ा दिल रखने को कहा है. जिनेवा में सोमवार को डोनर कॉन्फ्रेंस हुई थी. इसमें अफगानिस्तान के लिए 1.2 बिलियन डॉलर यानी तकरीबन आठ हजार करोड़ रुपए की मदद देने का वादा किया गया. बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद देश राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक मोर्चे पर बेहद मुश्किल दौर से गुजर रहा है.
    लंबे समय से आर्थिक मदद पर जी रहा अफगानिस्तान
    हालांकि ये आर्थिक मदद अफगानिस्तान के लिए कोई नई बात नहीं है. ये देश लंबे समय से विदेशी आर्थिक मदद पर ही पल रहा है. लेकिन मौजूदा हालातों में तालिबान को ज्यादा आर्थिक मदद की दरकार है. क्योंकि सरकारी कर्मचारियों को सैलरी नहीं दी जा रही है. खाने-पीने और रोजमर्रा की चीजें आसमान छू रही हैं.

    पैसों को समझदारी से खर्च करेगा तालिबान
    अफगानिस्तान का कार्यवाहक विदेश मंत्री आमिर खान मुत्तकी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस में बयान दिया कि इस आर्थिक मदद को समझदारी से खर्च किया जाएगा. उसने कहा, ‘इसका इस्तेमाल गरीबी दूर करने के लिए करेंगे. हम दुनिया को एक अरब डॉलर की मदद देने का शुक्रिया करते हैं. उनसे आगे की इसी तरह की मदद की उम्मीद है. इस पैसे को पूरी पारदर्शी तरीके से जरूरतमंदों तक पहुंचाने की कोशिश होगी.’

    फिर अमेरिका को नसीहत दी
    मुत्तकी अमेरिका पर ताना कसते ही बोले कि उसे तालिबान की तारीफ करनी चाहिए, जिन्होंने बीते महीने अमेरिकी सेना की वापसी और हजारों लोगों को निकालने की इजाजत दी थी. अमेरिका बड़ा देश है और उसके पास बड़ा दिल भी होना चाहिए. मुत्तकी ने कहा कि अफगानिस्तान सूखे का भी सामना कर रहा है. पाकिस्तान, कतर और उज्बेकिस्तान जैसे देशों से उन्हें पहले ही सहायता मिल चुकी है. हालांकि उन्हें आर्थिक मदद मिली, इसका जिक्र नहीं किया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज