फिलीपीन्स की चेतावनी- हमला करने की ना सोचे चीन, नहीं तो बुला लेंगे अमेरिकी सेना

फिलीपीन्स की चेतावनी- हमला करने की ना सोचे चीन, नहीं तो बुला लेंगे अमेरिकी सेना
फिलीपीन्‍स के राष्‍ट्रपति रोड्रिगो डुटेर्टे (फाइल फोटो)

फ‍िलीपीन्‍स ने साउथ चाइना सी (South China Sea) में चीन की दादागिरी देखकर उसे चेतावनी दी है. फ‍िलीपीन्‍स (Philippines) ने कहा क‍ि अगर उसके युद्धपोतों पर हमला हुआ तो वह अमेरिका को बुला लेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2020, 5:24 PM IST
  • Share this:
मनीला. पिछले कुछ समय से चीन की दादागिरी बढ़ती ही जा रही है. लेकिन उसे उसका मुंहतोड़ जवाब भी मिल रहा है. इस बार चीन को फिलीपीन्स (Philippines) ने चेतावनी दी है कि अगर उसने दक्षिण चीन सागर में उसके नौसैनिक जहाजों पर हमला किया तो वह अमेरिकी सेना (US Army) को बुला लेगा. फिलीपीन्‍स के विदेश मंत्री टेओडोरो लोकसिन ने बुधवार को कहा क‍ि चीन ने अगर हमला किया तो वह अमेरिका के साथ अपने रक्षा समझौते को लागू कर देगा. इससे पहले फिलीपीन्‍स के राष्‍ट्रपति रोड्रिगो डुटेर्टे के प्रशासन ने कहा था कि उनकी सरकार अमेरिका से मदद नहीं मांगेगी. माना जा रहा है कि फिलीपीन्‍स और चीन के बीच साउथ चाइना सी में बढ़ते तनाव के बाद मनीला ने बीजिंग को यह चेतावनी दी है.

विदेश मंत्री लोकसिन ने कहा कि चीन की चेतावनी के बाद फिलीपीन्‍स की वायुसेना आगे भी साउथ चाइना के ऊपर गश्‍त लगाती रहेगी. चीन ने इसे अवैध उकसावे वाली कार्रवाई बताया है. लोकसिन ने कहा, 'वे इसे अवैध कार्रवाई बताते हैं, आप उनके दिमाग को नहीं बदल सकते हैं. वे पहले ही न्‍यायालय में हार चुके हैं.' लोकसिन ने आगे कहा कि अगर चीन इससे आगे बढ़ते हुए हमारे जहाजों पर हमला करता है तो हम अमेरिकी सेना को बुला लेंगे. उन्‍होंने यह नहीं बताया कि किन परिस्थितियों में फ‍िलीपीन्‍स अमेरिका को बुलाएगा, इस पर उन्‍होंने जवाब नहीं दिया. विदेश मंत्री लोकसिन ने इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से बात की थी. लोकसिन का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब अमेरिका और चीन के बीच साउथ चाइना सी को लेकर व‍िवाद बढ़ता ही जा रहा है.

ये भी पढ़ें: जापान में मिलीं सैकड़ों साल पुरानी 1,500 मानव हड्डियां, हाथ-पैरों पर थे निशान



चीन ने किया चार मिसाइलों का परीक्षण
इससे पहले बुधवार की रात को साउथ चाइना सी में अपनी शक्ति का प्रदर्शन करते हुए चीन ने चार मिसाइलों का परीक्षण किया था. बताया जा रहा है कि ये चारों मध्यम दूरी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइलें थीं. चीन ने पहले ही हेनान द्वीप के पास मिसाइल टेस्ट को लेकर नोटम जारी किया हुआ था. जिसके कारण इस क्षेत्र में हवाई यातायात को प्रतिबंधित कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज