अमेरिका का चीन पर फूटा गुस्सा, कहा-'साउथ चाइना सी' ड्रैगन का निजी साम्राज्य नहीं

अमेरिका का चीन पर फूटा गुस्सा, कहा-'साउथ चाइना सी' ड्रैगन का निजी साम्राज्य नहीं
फोटो सौ. (सोशल मीडिया)

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो के ट्विटर हैंडल की तरफ से जारी (Tweet) के अनुसार चीन सागर विवाद को अंतरराष्ट्रीय कानून के जरिए हल किया जाना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 26, 2020, 12:25 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) की तरफ से दक्षिणी चीन सागर को लेकर चेतावनी दी गई है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो के ट्विटर हैंडल की तरफ से जारी एक ट्वीट (Tweet) के अनुसार दक्षिणी चीन सागर उसका अपना कोई निजी साम्राज्य नहीं है. ट्वीट में लिखा गया है, 'यदि बीजिंग अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करता है और स्वतंत्र राष्ट्र इसमें कुछ नहीं करते हैं तो, चाइजीज कम्यूनिस्ट पार्टी इसके और अधिक क्षेत्र को ले लेगी. चीन सागर विवाद को अंतरराष्ट्रीय कानून के जरिए हल किया जाना चाहिए.'

बता दें कि,  दक्षिण चीन सागर को लेकर भी तनाव बरकरार है.  इससे पहले भी अमेरिका और चीन के बीच साउथ चाइना सी को लेकर तनाव था. इसी तनाव को देखते हुए अमेरिकी नौसेना ने अपने विमानवाहक युद्धपोत साउथ चाइना सी में पहले से ही तैनात कर रखे हैं. चीन ने पहले ही कह दिया कि अमेरिका साउथ चाइना सी में तनाव बढ़ा रहा है. चीन और भारत के बीच भी सीमा पर तनाव बरकरार है. गलवान घाटी की घटना के बाद से दुनियाभर में चीन की नीतियों की आलोचना हो रही है. अमेरिका चीन के इस तरह के कारनामों से खासा खफा है.

The United States' policy is crystal clear: The South China Sea is not China’s maritime empire. If Beijing violates international law and free nations do nothing, history shows the CCP will simply take more territory. China Sea disputes must be resolved through international law. pic.twitter.com/H6IXWdxVA9





ये भी पढ़ें: 90 परमाणु वैज्ञानिकों ने बीच रास्ते छोड़ा चीन का साथ, दिया इस्तीफा

अमेरिका चीन लगाते हैं एक दूसरे पर आरोप
चीन साउथ चाइना सी को अपना बताता है. वो बाकी देशों को वहां पर किसी तरह से काम नहीं करने देता है, इसको देखते हुए अमेरिका ने नाराजगी जताई है. चीन ताइवान को भी साउथ चाइना सी में किसी तरह की खोज नहीं करने देता है. इसको देखते हुए अब अमेरिका ने ताइवान के साथ मिलकर अपने युद्धपोत वहां तैनात कर दिए हैं. इससे चीन बौखलाया हुआ है. अमेरिका ने दक्षिण चीन सागर में अपने युद्धपोत यूएसएस निमित्ज और यूएसएस रोनाल्ड रीगन दूसरी बार तैनाती की है. दरअसल चीन पूरे दक्षिण चीन सागर को अपना हिस्सा बताता है जबकि अमेरिका सहित पड़ोसी देश इसे स्वतंत्र क्षेत्र मानती है. इस समुद्री क्षेत्र पर वर्षो से चल रही तनातनी हाल के महीनों में चरम पर पहुंच गई है. अमेरिका और चीन, दोनों ने एक-दूसरे पर इलाके में तनाव पैदा करने का आरोप लगा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading