अपना शहर चुनें

States

दक्षिण कोरिया में 8 साल की बच्ची से रेप, 3 साल कम की गई बलात्कारी की सजा

द. कोरिया में बलात्कारी की सजा कम कर दी गई. प्रतीकात्मक तस्वीर
द. कोरिया में बलात्कारी की सजा कम कर दी गई. प्रतीकात्मक तस्वीर

Rape Convict Released From Jail in South Korea: दक्षिण कोरिया में आठ साल की बच्ची के साथ क्रूरता के साथ 56 वर्षीय व्यक्ति (Rape With Brutality) ने बलात्कार किया. दोषी व्यक्ति को 15 साल की सजा सुनाई गई. लेकिन उसकी सजा 3 साल कम कर दी गई और अब वह जेल से बाहर आ चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 5, 2021, 9:19 PM IST
  • Share this:
सिओल. दक्षिण कोरिया में रेप (Rape Law) के मामले में सजा को लेकर ढुलमुल रवैया बरतने पर एक नया विवाद शुरू हो गया है. दरअसल, एक बच्ची के साथ क्रूरता के साथ बलात्कार (Rape With Brutality) के दोषी व्यक्ति की सजा कम कर दी गई है. दक्षिण कोरिया (South Korea) के अनसन में 2008 में 11 दिसंबर को एक आठ साल की बच्ची स्कूल जा रही थी, उस दौरान उसका अपहरण 56 साल के शू दू सून नाम के व्यक्ति ने कर लिया. वह व्यक्ति उस बच्ची को पास के एक चर्च के टॉयलेट में ले गया और उसी निर्ममता से पिटाई की और फिर उसका बलात्कार किया.

पीड़िता को शारीरिक और मानसिक आघात पहुंचा

बच्ची का शरीर जगह-जगह से जख्मी हो गया और उसे मानसिक आघात भी पहुंचा. उसे अस्पताल में दाखिल कराया गया. अब समस्या यह है कि बलात्कारी जेल से छूटकर अनसन लौट आया है और पीड़िता का घर उसके घर से महज एक किलोमीटर की दूरी पर है.



बलात्कारी की सजा कम कर दी गई
पीड़िता के पिता ने दुखी होकर बताया कि हम भागना नहीं चाहते हैं लेकिन हमारे पास कोई विकल्प नहीं है. हम सरकार को यह संदेश देना चाहते हैं कि उन्होंने बलात्कारी की सजा कम कर पीड़िता को छिपने के लिए बाध्य किया है. बता दें कि शू की सजा 15 साल से कम करके 12 साल कर दी गई.



ये भी पढ़ें: VIRAL VIDEO: दुबई के प्रिंस ने साइकिल से शुतुरमुर्ग के साथ लगाई रेस 

PHOTOS: नॉर्वे में भूस्खलन से तबाह हुआ गांव, अबतक 7 लोगों की हो चुकी है

पिता ने कहा कि उसकी बेटी इस बात पर अड़ी है कि उसे अनसन से निकाल कर कहीं और ले जाया जाए. वह अपने घनिष्ठ मित्रों के बीच नहीं रहना चाहती है. पीड़ित परिवार इस बात से भी डर रही है कि अनसन से निकल कर कहीं और जाने पर उसकी पहचान उजागर ना हो जाए. लेकिन इसके अलावा हमारे पास कोई दूसरा विकल्प भी तो नहीं बचा है. घटना को बीते कई साल हो गए लेकिन कुछ भी नहीं बदला है. हादसे का सारा बोझ पीड़िता पर डाल दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज