और बढ़ी कोरोना वायरस की ताकत, अब घर के अंदर परिवारवालों से ही फैल रहा संक्रमण

और बढ़ी कोरोना वायरस की ताकत, अब घर के अंदर परिवारवालों से ही फैल रहा संक्रमण
कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं.

दक्षिण कोरिया (South Korea) में हुए रिसर्च में यह खुलासा हुआ है. इसमें कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित 5706 लोगों को शामिल किया गया.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दुनिया में अब तक 6.29 लाख से अधिक लोगों की जान ले चुका कोरोना वायरस (Coronavirus) दिनोंदिन खतरनाक होता जा रहा है. विश्‍व में इस जानलेवा संक्रमण (Covid 19) के अब तक कुल 1.53 करोड़ से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. इसकी वैक्‍सीन विकसित करने और इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए रोजाना रिसर्च हो रहे हैं. अब दक्षिण कोरिया में हुए एक रिसर्च में अहम जानकारी सामने आई है. इसमें कहा गया है कि अब बाहरी लोगों से संपर्क में आने की तुलना में घर के अंदर परिवारवालों के संपर्क में आने से कोरोना वायरस फैलने के सबूत मिले हैं. मतलब अब कोरोना वायरस संक्रमण घर के अंदर मौजूद लोगों से भी फैल रहा है.

दक्षिण कोरियाई विशेषज्ञों की ओर से किया गया यह रिसर्च अमेरिका के सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) में 16 जुलाई को प्रकाशित हुआ है. इसमें कोरोना वायरस से संक्रमित 5706 लोगों को शामिल किया गया. साथ ही उनके संपर्क में आए 59 हजार से अधिक लोगों को भी इस रिसर्च का हिस्‍सा बनाया गया. इसमें जानकारी सामने आई कि कोरोना संक्रमित हर 100 में से 2 लोगों को यह संक्रमण घर के बाहर वायरस ने जकड़ा था. उन्‍हें परिवारवालों से यह संक्रमण नहीं हुआ. वहीं हर 10 में से एक संक्रमित को कोरोना वायरस संक्रमण उसके परिवारवाले से मिला.

इस रिसर्च में कहा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में उम्र का भी योगदान है. इसके अनुसार घर में अगर कोरोना संक्रमण का पहला मामला टीनएजर्स या 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में सामने आता है तो संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है.

साउथ कोरिया के सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के डायरेक्टर जियॉन्ग यून-केयॉन्ग के मुताबिक, इस उम्र के लोग परिवार के दूसरे सदस्‍यों के ज्‍यादा करीब होते हैं. इसलिए उन्‍हें खतरा अधिक होता है. यह भी कहा गया है कि युवाओं की तुलना में बच्‍चों में गैर लक्षणी संक्रमण का खतरा अधिक होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज