लाइव टीवी
Elec-widget

श्रीलंका: गोटाबाया राजपक्षे ने जीता राष्ट्रपति चुनाव, माने जाते हैं चीन के करीबी

News18Hindi
Updated: November 17, 2019, 11:48 AM IST
श्रीलंका: गोटाबाया राजपक्षे ने जीता राष्ट्रपति चुनाव, माने जाते हैं चीन के करीबी
श्रीलंका के चुनाव आयोग ने बताया है कि वह रविवार देर रात तक अंतिम परिणाम घोषित कर सकता है. (AP Photo/Eranga Jayawardena)

श्रीलंका के चुनाव ईस्टर संडे (Easter Sunday) बम विस्फोट के बाद सुरक्षा चुनौतियों और बढ़ते राजनीतिक ध्रुवीकरण से जूझ रहे देश का भविष्य तय करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2019, 11:48 AM IST
  • Share this:
कोलंबो. श्रीलंका (SriLanka) में राष्ट्रपति पद (President Election) के चुनाव के लिए रविवार को जारी मतों की गणना में पूर्व रक्षा सचिव गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) ने जीत दर्ज कर ली. बता दें कि राजपक्षे का झुकाव चीन की तरफ बताया जाता है.

श्रीलंका में घातक आतंकवादी हमले के सात महीने बाद कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ था. निर्वाचन आयोग (Election Commission Sri lanka) ने बताया कि करीब पांच लाख मतों की गणना के बाद मुख्य विपक्षी उम्मीदवार राजपक्षे 50.51 प्रतिशत मतों के साथ आगे चल रहे हैं, जबकि पूर्व आवासीय मंत्री सजीत प्रेमदासा (Sajith Premadasa) को 43.56 प्रतिशत मत मिले. प्रेमदासा ने अपनी हार स्वीकार कर ली है.

प्रेमदास ने कहा, ‘लोगों के निर्णय का सम्मान करना और श्रीलंका के सातवें राष्ट्रपति के तौर पर चुने जाने के लिए गोटबाया राजपक्षे को बधाई देना मेरे लिए सौभाग्य की बात है.’ प्रेमदास के बयान से पूर्व राजपक्षे के प्रवक्ता ने चुनाव परिणाम की आधिकारिक घोषणा से पहले दावा किया कि 70 वर्षीय सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट कर्नल ने शनिवार को हुए चुनाव में जीत दर्ज की.

वामपंथी अनुरा कुमारा दिसानायके (Anura Kumara Dissanayake) 4.69 प्रतिशत मतों के साथ तीसरे नंबर पर हैं. इस पद के लिए 32 और उम्मीदवार मैदान में हैं.

80 प्रतिशत मतदाताओं ने भाग लिया
आयोग के अध्यक्ष महिंदा देशप्रिया ने बताया कि शनिवार को हुए मतदान में कुल 1.59 करोड़ मतदाताओं में से कम से कम 80 प्रतिशत मतदाताओं ने भाग लिया. 70 वर्षीय राजपक्षे देश के सिंहली बहुल इलाकों में आगे है, जबकि प्रेमदासा को उत्तरी और पूर्वी क्षेत्रों में तमिल समुदाय का समर्थन प्राप्त है.

‘यूनाइटेड नेशनल पार्टी’ (यूएनपी) के प्रेमदासा (52) देश के पूर्व राष्ट्रपति रणसिंहे प्रेमदासा के पुत्र हैं. देश में 21 अप्रैल को हुए आत्मघाती बम हमलों के बाद यह चुनाव यूएनपी नीत सरकार की लोकप्रियता की परीक्षा है. इन हमलों में कम से कम 269 लोगों की मौत हो गई थी. इन हमलों को रोकने में नाकाम रहने पर सरकार को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. (एएफपी इनपुट के साथ)
Loading...

यह भी पढ़ें: प्रेमदासा Vs राजपक्षे: श्रीलंका में किसके राष्ट्रपति बनने से भारत का फायदा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए श्रीलंका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 10:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...