ईस्टर बम धमाकों के बाद मदद के लिए श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने PM मोदी को कहा शुक्रिया

पीएम मोदी ईस्टम बम धमाकों के बाद श्रीलंका जाने वाले किसी अन्य देश के पहले प्रधानमंत्री थे. 21 जून को हुए ईस्टर बम धमाकों के बाद पीएम मोदी जून में श्रीलंका के दौरे पर गए थे.

News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 7:32 AM IST
ईस्टर बम धमाकों के बाद मदद के लिए श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने PM मोदी को कहा शुक्रिया
श्रीलंकाई पीएम ने धमाकों के बाद की मदद के लिए पीएम मोदी को शुक्रिया कहा है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 2, 2019, 7:32 AM IST
श्रीलंकाई प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने गुरुवार को ईस्टर संडे बम धमाकों के बाद 'सारी मदद' के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का शुक्रिया अदा किया है. इन बम धमाकों में करीब 260 लोगों की मौत हुई थी. श्रीलंका के अब तक के सबसे बड़े आतंकी हमले, 21 जून को हुए इन बम धमाकों के बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पहले विदेशी नेता थे, जो श्रीलंका की यात्रा पर गए थे. उनके इस दौरे को भारत की ओर से श्रीलंका के साथ मजबूती से खड़े होने वाले कदम के तौर पर देखा गया था. श्रीलंका में हुए इन बम धमाकों में 11 भारतीय नागरिकों की मौत भी हुई थी.

विक्रमसिंघे ने कहा, "मैं उन सारी मदद के लिए भारत की सरकार का शुक्रिया अदा करना करना चाहूंगा, जो वे हमें दे रहे हैं."

भारत की मदद से तैयार टाटा हाउसिंग के जरिए 626 परिवारों को मिला घर
टाटा हाउसिंग की एक कम कीमत वाली हाउसिंग स्कीम के उद्घाटन के मौके पर उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की यात्रा ने हमें बहुत 'आत्मविश्वास और संबल' दिया है.

करीब 626 परिवारों को इस हाउसिंग स्कीम से फायदा हुआ है. ये घर मध्य कोलंबों के स्लेव द्वीप इलाके में बनाए गए हैं. श्रीलंका में भारतीय राजदूत के अनुसार इनमें श्रीलंकाई मुद्रा के तौर पर 700 करोड़ श्रीलंकाई रुपये का निवेश हुआ है.

पीएम मोदी ने कहा था, आतंक का कायरता भरा का श्रीलंका की आत्मा को नहीं हरा सकता
अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने बम धमाकों के स्थल में से एक सेंट एंटोनी चर्च पर इस खतरनाक बम धमाके में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी थी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था, "मेरा विश्वास है कि श्रीलंका फिर से उठ खड़ा होगा. आतंक का कायरता भरा काम श्रीलंका की आत्मा को हरा नहीं सकता. भारत मजबूती से श्रीलंका के लोगों के साथ खड़ा है."
Loading...

आईएस ने ली थी लगातार हुए 9 बम धमाकों की जिम्मेदारी
श्रीलंका के तीन चर्चों और बड़े होटलों में लगातार 9 बम धमाके हुए थे. जिसमें करीब 258 लोग मारे गए थे. 2009 में श्रीलंका के भीषण घरेलू युद्ध के बाद से यह श्रीलंका में हुई पहली बड़ी हिंसा थी. इन हमलों की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी लेकिन श्रीलंकाई सरकार ने इन हमलों के लिए स्थानीय संगठन नेशनल तौहीद जमात (NTJ) को इसका जिम्मेदार माना था.

यह भी पढे़ं: यमन के अदन में सेना की परेड पर मिसाइल अटैक, 40 लोगों की मौत
First published: August 2, 2019, 1:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...