अपना शहर चुनें

States

श्रीलंका भारत से कोरोना वायरस वैक्सीन कोविशील्ड के 20 से 30 लाख खुराकें खरीदेगा

देश में 16 जनवरी से कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम चालू है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
देश में 16 जनवरी से कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम चालू है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Coronavirus Vaccination in Srilanka: श्रीलंका में पिछले साल मार्च से बीती 26 जनवरी तक कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के लगभग 60 हजार मामले दर्ज किये गये हैं और इस महामारी से 288 लोगों की मौत हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2021, 7:10 PM IST
  • Share this:
कोलंबो. श्रीलंका अगले दो दिनों के दौरान भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) से ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीके (Oxford-Astrazeneca Vaccine) की 20 लाख से 30 लाख खुराक खरीदेगा. एक शीर्ष श्रीलंकाई अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के सलाहकार ललित वीरातुंगा ने बताया कि भारत से श्रीलंका को मुफ्त में दिये जाने वाले टीकों के बृहस्पतिवार को पहुंचने के बाद भारत से इन टीकों की खरीद की जायेगी. उन्होंने बताया कि भारतीय कोविशील्ड टीका (Covishield) कल आने वाला है और यह खेप राष्ट्रपति राजपक्षे द्वारा कोलंबो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ली जाएगी.

अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, सुरक्षा बलों एवं पुलिसकर्मियों और बुजुर्ग लोगों समेत कुल 2,50,000 लोगों को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाया जायेगा. देश में टीकाकरण कार्यक्रम के लिए पूर्वाभ्यास सप्ताहांत में हुआ था और इस कार्यक्रम की शुक्रवार को शुरूआत होगी. वीरातुंगा ने बताया कि चीन (China) से भी 3,00,000 मुफ्त टीके मिलने हैं और टीके के लिए सरकार रूस से भी अनुरोध करेगी. श्रीलंका में पिछले साल मार्च से बीती 26 जनवरी तक कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के लगभग 60 हजार मामले दर्ज किये गये हैं और इस महामारी से 288 लोगों की मौत हुई है.

बता दें कि भारत सरकार ने देश में 16 जनवरी से कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम (Coronavirus Vaccination Programme) को शुरू कर दिया और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ऐस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ साझे में मिलकर बनाई गई वैक्सीन कोविशील्ड और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ भारत बॉयोटेक की बनाई कोरोना वायरस वैक्सीन कोवॉक्सिन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में अब तक 20 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन के टीके लगाए जा चुके हैं. टीकाकरण के पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को प्राथमिकता के आधार पर टीके लगाए जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज