श्रीलंका सीरियल ब्लास्टः दुनियाभर के नेताओं ने की धमाकों की आलोचना

राष्ट्रपति कार्यालय की तरफ से बयान जारी कर देश भर में शाम छह बजे से कल सुबह छह बजे तक कर्फ्यू लगाने की घोषणा की गई. इसके साथ ही 22 और 23 अप्रैल को सरकारी छुट्टी रहेगी.

News18Hindi
Updated: April 21, 2019, 5:52 PM IST
श्रीलंका सीरियल ब्लास्टः दुनियाभर के नेताओं ने की धमाकों की आलोचना
धमाके से दहला श्रीलंका
News18Hindi
Updated: April 21, 2019, 5:52 PM IST
श्रीलंका की राजधानी कोलंबो एवं देश के अन्य हिस्सों में रविवार को सिलसिलेवार आठ बम धमाके हुए. धमाकों में 187 लोगों की मौत हो गई जबकि 300 से भी अधिक लोग घायल हुए हैं. धमाके ईसाइयों के पवित्र पर्व ईस्टर के दिन चर्च और होटलों को निशाना बनाते हुए किए गए. इस घटना के पीछे किसी चरमपंथी संगठन का हाथ माना जा रहा है, हालांकि अभी तक किसी ने भी इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है. श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों की पूरी दुनिया में आलोचना हो रही है.

मारे गए लोगों में से 35 विदेशी नागरिक बताए जा रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए लोग अमेरिकन, ब्रिटिश और डच नागरिक हैं.



श्रीलंका में कर्फ्यू का ऐलान

राष्ट्रपति कार्यालय की तरफ से बयान जारी कर देश भर में रविवार शाम छह बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक कर्फ्यू लगाने की घोषणा की गई. इसके साथ ही बताया गया कि 22 और 23 अप्रैल को सरकारी छुट्टी रहेगी. इस दिन सभी स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे. इसके अलावा श्रीलंका पुलिस के सभी जवानों की छुट्टी कैंसल कर दी गई है. श्रीलंका सरकार ने अगले आदेश तक सोशल मीडिया और मैसेजिंग सर्विस को भी बंद कर दिया है.

हालत पर भारत की नजर

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर कहा कि हम लगातार हालात पर नजर बनाए हुए हैं और कोलंबो स्थित भारतीय उच्चायोग के लगातार संपर्क में हैं. विदेश मंत्रालय ने भारतीयों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं. भारतीय मदद के लिए +94777903082 +94112422788 +94112422789 +94777902082 और +94772234176 पर संपर्क कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: श्रीलंका धमाका: सुषमा स्वराज ने कहा- हालात पर है नजर, जारी किए हेल्पलाइन नंबर
Loading...

दुनिया भर के नेताओं ने की धमाकों की आलोचना

श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों की पूरी दुनिया में आलोचना हो रही है. भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धमाकों की आलोचना करते हुए लिखा, "श्रीलंका में हुए भीषण बम धमाकों की कठोर निंदा करता हूं. हमारे क्षेत्र में ऐसी बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है. भारत दुख की इस घड़ी में मजबूती से श्रीलंका के साथ खड़ा है. हमले में मारे गए लोगों के परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं और घायलों के साथ प्रार्थना."



अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "श्रीलंका में चर्चों और होटलों पर आतंकवादी हमलों में 138 लोग मारे गए, 600 बुरी तरह घायल हुए हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका श्रीलंका के महान लोंगों के प्रति हार्दिक संवेदना प्रकट करता है. हम मदद के लिए तैयार हैं."



ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टरीजा मे ने कहा, "श्रीलंका के होटल और चर्च पर हुए हमले डराने वाले हैं. इस घटना के शिकार लोगों के साथ मेरी सहानुभूति. हम सभी को एकजुट होना चाहिए ताकि कोई भी अपने धर्म से जुड़े कार्य करते वक्त डर में न रहे."



पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी धमाकों की आलोचना की और लिखा, "ईस्टर के दिन श्रीलंका में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता हूं. श्रीलंका के भाईयों को हमारी संवेदनाएं. दुख की इस घड़ी में पाकिस्तान श्रीलंका के साथ खड़ा है."



मालदीव के राष्ट्रपति ने कहा, "सुबह श्रीलंका में हुए हमले की खबर से सदमे में हूं. इस भयानक हमले में मारे गए लोगों के प्रति मेरी संवेदनाएं. दुख की इस घड़ी में हम श्रीलंका के साथ खड़े हैं और आतंक के खिलाफ लड़ाई में उनका समर्थन करेंगे.”



बता दें कि एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक श्रीलंका के पुलिस प्रमुख ने दस दिन पहले इनपुट दिया था कि देश में बम धमाकों के जरिए बड़े हमले हो सकते हैं. अलर्ट में कहा गया था कि फिदायीन हमलावर देश के प्रमुख चर्चों को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं.

ये भी पढ़ें: श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट LIVE: कोलंबो में आठवां धमाका, मरने वालों की संख्‍या 187 हुई, पूरे देश में लगा कर्फ्यू

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार