श्रीलंका देगा चीन को बड़ा झटका, एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन का दिया ऑर्डर

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन. (सांकेतिक तस्वीर)

India Covid-19 Vaccine gift to Srilanka: भारत ने श्रीलंका को कोरोना वायरस टीकाकरण के लिए वैक्सीन की 5 लाख खुराक गिफ्ट की हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. श्रीलंका (Sri Lanka) ने चीन (China) को बड़ा झटका देने की तैयारी कर ली है. भारत के पड़ोसी देश में कोरोना वायरस टीकाकरण (Coronavirus Vaccination) के दूसरे चरण के लिए चीन की वैक्सीन के बजाय ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका (Astrazeneca) की वैक्सीन की 13.5 मिलियन खुराक का ऑर्डर दिया है. बता दें कि भारत ने श्रीलंका को कोरोना वायरस टीकाकरण के लिए वैक्सीन की 5 लाख खुराक गिफ्ट की हैं. मंगलवार को श्रीलंका सरकार के एक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी दी. श्रीलंका के मंत्री रमेश पथिराना ने कहा कि कोरोना वायरस टीकाकरण के दूसरे चरण के लिए हमारा देश सिर्फ एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन के इस्तेमाल पर विचार कर रहा है. चीन और रूस की वैक्सीन अभी तक तैयार नहीं हैं.

    सीरम को दिया 1 करोड़ खुराक का ऑर्डर
    पथिराना ने कहा कि चीन की वैक्सीन निर्माता कंपनियों ने वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल डाटा को अभी साझा नहीं किया है. प्रवक्ता ने कहा कि सरकार ने टीकाकरण कार्यक्रम के पहले चरण के लिए भारत स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 1 करोड़ एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की खुराक का ऑर्डर दिया है. 1 करोड़ टीकों के लिए श्रीलंका सरकार ने सीरम को 52.5 मिलियन डॉलर का भुगतान किया है. इसके अलावा श्रीलंकाई सरकार ने कोवॉक्स कार्यक्रम के तहत सीधे ब्रिटेन स्थित एस्ट्राजेनेका इंस्टीट्यूट को वैक्सीन की 3.5 मिलियन खुराक का ऑर्डर दिया है.

    राजपक्षे ने सराहा था भारत की 'पड़ोसी पहले' नीति को
    जनवरी के अंत में भारत सरकार ने श्रीलंका को एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 5 लाख खुराक गिफ्ट की थीं, जिसके जरिए पड़ोसी देश में टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हुआ. श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने पिछले महीने भारत का धन्यवाद करते हुए कहा था कि भारत ने 'पड़ोसी पहले' नीति के श्रीलंका को कोविशील्ड वैक्सीन की 5 लाख खुराक देकर बड़ा दिल दिखाया है. पथिराना ने कहा कि सरकार को स्वास्थ्य विशेषज्ञों से सटीक सलाह मिली है कि वैक्सीन का दूसरा डोज कब दिया जाना है, यद्यपि ये माना जा रहा है कि वैक्सीन का दूसरा डोज चार हफ्ते के बाद दिया जाना चाहिए.

    कई देश मांग रहे हैं भारत से कोरोना वैक्सीन
    हालिया हफ्तों में विशेषज्ञों ने कहा था कि कोरोना वायरस वैक्सीन का दूसरा डोज अगर तीन महीने के अंतराल पर दिया जाए तो वैक्सीन का प्रभाव बढ़ सकता है. पिछले महीने भारत ने ऐलान था कि अनुदान के रूप में श्रीलंका और सात अन्य देशों को कोरोना वायरस वैक्सीन की खुराक भेंट की जाएगी. इन देशों में भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, सेशल्स, अफगानिस्तान और मॉरिशस हैं.

    बता दें कि भारत दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता देशों में से एक है. कोरोना का प्रभाव वैश्विक स्तर पर है और कई देश भारत से कोरोना वायरस वैक्सीन की मांग कर रहे हैं. श्रीलंका में कोरोना वायरस संक्रमण के 80,500 से ज्यादा मामले हैं, जबकि 450 से ज्यादा लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.