लाइव टीवी

श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने किया इस्‍तीफे का ऐलान, अब राष्‍ट्रपति के बड़े भाई बनेंगे नए पीएम

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 8:09 PM IST
श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने किया इस्‍तीफे का ऐलान, अब राष्‍ट्रपति के बड़े भाई बनेंगे नए पीएम
श्रीलंंका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के बाद वहां एक बार फिर से राजपक्षे भाईयों के युग की शुरुआत हो गई है. फोटो. रॉयटर्स

रानिल विक्रमसिंघे ने चुनाव (Sri Lanka president election) में मिली हार के बाद अपने पद से इस्‍तीफे की घोषणा कर दी. महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) वर्तमान में मुख्‍य विपक्षी नेता हैं. माना जा रहा है कि वह गुरुवार को विक्रमसिंघे के पद छोड़ देने के बाद नए प्रधानमंत्री बन सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 8:09 PM IST
  • Share this:
कोलंबो. श्रीलंका के नए राष्‍ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) ने देश के प्रधानमंत्री के लिए अपने ही बड़े भाई महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) का नाम आगे बढ़ाया है. गोटाबाया के राष्‍ट्रपति बनने के बाद ही इस बात की अटकलें चलने लगी थीं. उन्‍होंने ये घोषणा वर्तमान प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के इस्‍तीफे की घोषणा के बाद की. रानिल विक्रमसिंघे ने चुनाव (Sri Lanka president election) में मिली हार के बाद अपने पद से इस्‍तीफे की घोषणा कर दी. महिंदा राजपक्षे वर्तमान में मुख्‍य विपक्षी नेता हैं. माना जा रहा है कि वह गुरुवार को विक्रमसिंघे के पद छोड़ देने के बाद नए प्रधानमंत्री बन सकते हैं.

पिछले साल अक्‍टूबर में महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) उस समय श्रीलंका के प्रधानमंत्री बने थे, जब तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने उनकी इस पद पर नियुक्‍ति की थी. तब उन्‍होंने रानिल विक्रमसिंघे को पद से हटा दिया था. हालांकि बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सिरिसेना के कदम को अवैध करार दे दिया. इसके बाद दिसंबर में महिंदा राजपक्षे ने इस्‍तीफा दे दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने सिरिसेना के इस कदम को अवैध करार दिया था.

महिंदा राजपक्षे  2005 से 2015 तक श्रीलंका के राष्‍ट्रपति रह चुके हैं
इससे पहले 2005 से लेकर 2015 तक महिंदा राजपक्षे श्रीलंका के राष्‍ट्रपति रह चुके हैं. वह श्रीलंका के सबसे युवा सांसद बनने का रिकॉर्ड बना चुके हैं. महिंदा राजपक्षे ने 1970 में 24 साल की उम्र में सांसद बनने का रिकॉर्ड बनाया था. श्रीलंका में राजपक्षे भाइयों को लिट्टे के खिलाफ चली निर्णायक लड़ाई में बड़ी भूमिका निभाई है.

इससे पहले बुधवार को विक्रमसिंघे ने तब अपने इस्‍तीफे की घोषणा कर दी, जब उनकी पार्टी के उम्‍मीदवार को राष्‍ट्रपति चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. कोलंबो गजेट के अनुसार रानिल विक्रमसिंघे ने कहा, मैं अपने पद से इस्‍तीफा दे रहा हूं. ताकि नए राष्‍ट्रपति अपनी नई सरकार को बना सकें. मैं आधिकारिक रूप से उन्‍हें अपने फैसले से गुरुवार को अवगत कराउंगा.

यह भी पढ़ें... 5 साल शिवसेना का मुख्यमंत्री होने पर कांग्रेस को ऐतराज नहीं: सूत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए श्रीलंका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 8:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...