ट्रंप के बातचीत रद्द करने के बाद बोला तालिबान- अब ज्यादा लोग मरेंगे

तालिबान (Taliban) ने अपने बयान में डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) द्वारा बताई गई वजह को खारिज कर दिया और कहा कि उनमें न तो अनुभव और न ही धैर्य झलकता है.

भाषा
Updated: September 9, 2019, 10:40 AM IST
ट्रंप के बातचीत रद्द करने के बाद बोला तालिबान- अब ज्यादा लोग मरेंगे
तालिबान ने अपने बयान में ट्रंप द्वारा बताई गई वजह को खारिज कर दिया है.
भाषा
Updated: September 9, 2019, 10:40 AM IST
काबुल.


अफगानिस्तान में तालिबान के साथ वार्ता खत्म करने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के ऐलान के बाद तालिबान (Taliban) ने अमेरिका को एक बार चेतावनी दी है. तालिबान ने रविवार को कहा कि इस फैसले से सबसे ज्यादा नुकसान अमेरिका को होगा, लेकिन वो आगे भी बातचीत के लिए 'दरवाज़े' खुला छोड़ता है.

तालिबान की ओर से ट्विटर पर जारी बयान में उसके प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा, "हम अब भी.... विश्वास करते हैं कि अमेरिकी पक्ष को यह समझ में आएगा .. पिछले 18 सालों से हमारी लड़ाई ने अमेरिकियों के लिए साबित कर दिया है कि जबतक हम उनके कब्जे का पूरी तरह से खत्म होते नहीं देख लेते, तबतक हम चैन से नहीं बैठेंगे. इस लड़ाई में और भी लोग मारे जाएंगे.'

तालिबान के हमले में मारे गए थे अमेरिकी सैनिक समेत 12 लोग
बयान में कहा गया है कि तालिबान ने अमेरिका के साथ समझौते को करीब अंतिम रूप दे दिया था और जिससे अमेरिका तालिबान से सुरक्षा वादों के एवज में अपने सैनिकों को वापस करना शुरू कर देता. बयान के मुताबिक दोनों इस करार के घोषणा होने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन उसी बीच ट्रंप ने शनिवार को घोषणा कर दी कि उन्होंने शांति वार्ता रोक दी है. ट्रंप ने वार्ता से पीछे हटने की वजह बृहस्पतिवार को काबुल में हुए एक तालिबान हमले को बतायी है जिसमें एक अमेरिकी सैनिक समेत 12 लोग मारे गए. इस वार्ता में इस सप्ताहांत मैरीलैंड के कैंप डेविड में तालिबान के साथ होने वाली गुप्त बैठक भी शामिल है.

डोनाल्ड ट्रंप ने कैंप डेविड में तालिबान के साथ होने वाली गोपनीय बैठक रद्द करने का ऐलान किया था.
डोनाल्ड ट्रंप ने कैंप डेविड में तालिबान के साथ होने वाली गोपनीय बैठक रद्द करने का ऐलान किया था.

Loading...

'ट्रंप में न अनुभव है और न ही धैर्य'
हालांकि, तालिबान ने अपने बयान में ट्रंप द्वारा बताई गई वजह को खारिज कर दिया और कहा कि उनमें न तो अनुभव और न ही धैर्य झलकता है. उसने अमेरिका पर लड़ाई में सैंकड़ों अफगानों की हत्या करने का आरोप लगाया. बयान में कहा गया है कि ट्रंप के फैसले से सबसे ज्यादा नुकसान अमेरिकियों को होगा, अमेरिका की साख को क्षति पहुंचेगी तथा उसका शांति विरोधी रुख दुनिया के सामने और स्पष्ट होकर सामने आएगा.

यह भी पढ़ें- 

चीन की शरण में पहुंचा पाकिस्‍तान, फिर कश्‍मीर का राग अलापा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 10:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...