अमेरिका में 1953 के बाद किसी को मिली मौत की सजा, गर्भवती महिला की हत्या मामले में है दोषी

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

अमेरिका (America) में साल 1953 के बाद पहली बाद किसी को मौत की सजा मिली है. आरोपी महिला लीसा को गर्भवती (Pregnant) की हत्या करने और उसका पेट काटकर बच्चे का अपहरण करने का दोषी पाया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 4, 2021, 8:15 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) में 1953 के बाद पहली बार किसी को मौत की सजा मिलने जा रही है, वो भी एक महिला को. इतने सालों बाद अमेरिका उसे इसलिए मौत (Death) की सजा दे रहा है क्योंकि माना गया कि उसने बहुत क्रूर तरीके का अपराध किया था. इस महिला का नाम लीसा मोंटोगोमैरी है. अमेरिका की संघीय अदालत ने 12 जनवरी को महिला के मौत की सजा के फैसले को बरकरार रखा है. लीसा को जानलेवा इंजेक्शन लगाकर मृत्युदंड दिया जाएगा. हालांकि पहले उसे यह सजा दिसंबर में इंडियाना के टेरे हौते जेल में मिलने वाली थी.

लीसा को गर्भवती की हत्या करने और उसका पेट काटकर बच्चे का अपहरण करने का दोषी पाया गया था. दरअसल, 16 दिसंबर 2004 को पालतू कुत्ता खरीदने के बहाने 36 साल की मोंटोगोमैरी की 23 वर्षीय बॉबी स्टीनेट के मिसौरी स्थित घर पहुंची थी. इसके बाद उसने 8 महीने की गर्भवती युवती स्टीनेट का रस्सी से गला घोंट दिया और फिर उसका पेट फाड़कर बच्चे को लेकर फरार हो गई.

ये भी पढ़ें: अमेरिका: नैन्सी पेलोसी दोबारा चुनी गईं प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष

पुलिस ने छानबीन के बाद आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया. मिसौरी की एक अदालत में लीसा ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया था और फिर 2008 में उसे अपहरण और हत्या का दोषी ठहराया गया था. उसे मौत की सजा सुनाई गई इसके बाद उसने कई संघीय अदालतों का दरवाजा खटखटाया, लेकिन हर जगह उसकी सजा को बरकरार रखा गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज