लाइव टीवी

बिना लक्षण वाले कोरोना वायरस के मरीज भी दूसरों में फैला सकते हैं संक्रमण- स्टडी

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 4:27 PM IST
बिना लक्षण वाले कोरोना वायरस के मरीज भी दूसरों में फैला सकते हैं संक्रमण- स्टडी
इटली में हुई स्टडी के नतीजे खतरनाक हैं.

कोरोना वायरस (Cororanvirus) को लेकर हुई स्टडी में कहा गया है कि बिना लक्षण वाले संक्रमित मरीज भी उसी तेजी से दूसरों में संक्रमण फैला सकते हैं, जितना वायरस के लक्षण वाले संक्रमित मरीज.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 4:27 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर एक हैरान करने वाली स्टडी (study) सामने आई है. इस स्टडी के मुताबिक कोरोना वायरस के ऐसे संक्रमित मरीज, जिनमें संक्रमण को कोई लक्षण नहीं दिख रहा हो, वो भी दूसरों में संक्रमण फैला सकते हैं. स्टडी के नतीजे खतरनाक हैं. इस तरह से देखा जाए तो कोरोना वायरस के बिना लक्षण वाले मरीजों को खुद को भी संक्रमण के बारे में नहीं पता होता और दूसरों को भी उनसे खतरा महसूस नहीं होता. लेकिन स्टडी कहती है कि कोरोना वायरस के बिना लक्षण वाले संक्रमित मरीज भी उसी तेजी से दूसरों में संक्रमण फैला सकते हैं, जितना वायरस के लक्षण वाले संक्रमित मरीज.

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक ये स्टडी इटली में की गई है. इटली में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से 683 नई मौतें दर्ज की गई है, जबकि सिर्फ बुधवार को संक्रमण के 7,503 नए मामले सामने आए. इटली में करोना वायरस के संक्रमण के मामले बढ़कर 75 हजार तक पहुंच चुके हैं.

वुहान में भी हुई थी इस तरह की स्टडी
इटली के लैमबॉर्डी में ये स्टटी की गई है. लैमबॉर्डी कोरोना वायरस से सबसे बुरी तरह से संक्रमित इलाका है. यहां बिना संक्रमण के लक्षण वाले मरीजों ने भी उतनी ही तेजी से संक्रमण फैलाया, जितना संक्रमण के लक्षण वाले मरीजों ने फैलाया था.



इसके पहले चीन के वुहान में इस तरह की स्टडी की गई थी. वुहान ही चीन का वो इलाक है, जहां से कोरोना वायरस का संक्रमण पूरी दुनिया में फैला है. वुहान में हुई स्टडी में पता चला कि 60 फीसदी कोरोना वायरस के मरीजों को संक्रमण ऐसे व्यक्ति से हुआ था, जिनमें वायरस संक्रमण के लक्षण दिखाई नहीं दे रहे थे.

इटली में करीब 5,830 कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के रिपोर्ट के आधार पर ये स्टडी की गई है. इस स्टडी को जनवरी 14 से मार्च 8 के बीच अंजाम दिया गया. स्टडी में शामिल किए गए आधे मरीज 50 साल से कम उम्र के थे.

इटली में हेल्थ वर्कर्स कोरोना से हो रहे हैं संक्रमित
स्टडी में बताया गया है कि संक्रमित मरीजों में 16 फीसदी हेल्थ वर्कर्स थे, जिन्हें इलाज के दौरान संक्रमण हुआ. करीब 47 फीसदी संक्रमित मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा. कुल मरीजों में करीब 16 फीसदी को आईसीयू में भर्ती करने की नौबत आई.

मरीजों की रिपोर्ट की एनालिसिस से पता चला कि 21 फरवरी को जिन 380 मरीजों को संक्रमित पाया गया, उनमें 17 में संक्रमण के कोई लक्षण नहीं दिख रहे थे. करीब 68 मरीजों में संक्रमण के कोई साफ लक्षण नहीं थे. हालांकि ये भी उतनी ही तेजी से दूसरों को संक्रमित करने की क्षमता रखते थे.

ये भी पढ़ें:

वायरस एक्सपर्ट की चेतावनी- अमेरिका में बार-बार लौट कर आएगा कोरोना

अलर्ट! चीन में ठीक हुए लोगों में से 10% को फिर से हो गया कोरोना संक्रमण, नहीं पता कैसे हुआ

Coronavirus: क्‍या यहां-वहां मंडराती मक्खियां भी फैला सकती हैं संक्रमण

जानें महात्‍मा गांधी ने 102 साल पहले ऐसे दी थी दुनिया की सबसे बड़ी महामारी को मात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 4:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर