ड्रैगन ने पूछा- जब टैगोर और योग को हम नहीं मानते खतरा, तो PUBG भारत के लिए कैसे डेंजरस

ड्रैगन ने पूछा- जब टैगोर और योग को हम नहीं मानते खतरा, तो PUBG भारत के लिए कैसे डेंजरस
फाइल फोटो.

भारत में 118 मोबाइल ऐप बैन से बौखलाए चीन (China) ने कहा है कि यह डब्ल्यूटीओ (WTO) के नियमों का उल्लंघन है. साथ ही कहा कि भारत निष्पक्ष, खुले और बिना भेदभाव के व्यावसायिक माहौल बनाए और सही रास्ते पर लौटे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 9:25 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन भारत द्वारा 118 ऐप बैन किए जाने के बाद से बौखला गया है. अब और कुछ नहीं मिला तो उसने नोबल पुरस्कार से सम्मानित रबीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) और योग की चीन में लोकप्रियता का हवाला दे दिया है. हिंदुस्तान टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार, चीन (China) के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत में 118 ऐप को बैन किए जाने के पीछे कारणों के विपरीत चीनी नागरिकों के बीच टैगोर की कविता की लोकप्रियता और योग की व्यापक स्वीकार्यता को चीन अपने लिए घुसपैठ या खतरे के तौर पर नहीं देखता है.

भारत की तरफ से एक बार फिर ऐप्स को बैन करने को चीन ने भेदभावपूर्ण कार्रवाई करार दिया. चीन ने भारत सरकार से अनुरोध करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर चीनी मोबाइल ऐप्स को बंद करने के भेदभावपूर्ण कार्रवाई को रोके. इसके साथ ही, चीन ने विश्व व्यापार संगठन के नियमों का हवाला देते हुए कहा यह डब्ल्यूटीओ के नियमों का उल्लंघन है. चीन ने कहा कि भारत निष्पक्ष, खुले और बिना भेदभाव के व्यावसायिक माहौल बनाए और सही रास्ते पर लौटे.


गौरतलब है कि एक दिन पहले केंद्र सरकार ने बुधवार को एक और अहम फैसला लिया और दुनियाभर में लोकप्रिय गेमिंग ऐप PUBG समेत 118 मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया है. इससे पहले भी सरकार कई चीनी कंपनियों की ऐप को बन कर चुकी है. सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने प्रतिबंधित की गईं ऐप्स को देश की सुरक्षा, संप्रभुता, एकता के लिए नुकसानदेह बताया. ऐप्स को बैन किए जाने की जानकारी देते हुए आईटी मंत्रालय ने कहा, 'सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69-ए के तहत इस फैसले को लागू किया है. ये सभी 118 मोबाइल ऐप्स विभिन्न प्रकार के खतरे उत्पन्न कर रही थीं, जिसके चलते इन्हें ब्लॉक किया गया है.' मंत्रालय ने आगे कहा उपलब्ध जानकारी के मद्देनजर ये ऐप्स ऐसी गतिविधियों में लगे हुए हैं, जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, सुरक्षा के लिए नुकसानदायक है.



ये भी पढ़ें: चीन ने दी चेक गणराज्य को धमकी, यूरोपीय देशों ने जमकर लताड़ा

कौन-कौन से ऐप्स बैन
सरकार ने जिन 118 मोबाइल ऐप्स को बैन किया है, उनमें APUS लॉन्चर प्रो थीम, APUS सिक्योरिटी-एंटीवायरस, APUS टर्बो क्लीनर 2020, शाओमी की शेयर सेव, फेसयू, कट कट, बायडु, कैमकार्ड शामिल हैं. इसके अलावा, वीचैट रीडिंग, पिटू, इन नोट, स्मॉल क्यू ब्रश, साइबर हंटर, लाइफ आफ्टर आदि ऐप्स भी शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज