आईएस के खिलाफ भी नाजियों की तरह चलें मुकदमे: UN

संयुक्त राष्ट्र विशेष जांच दल के प्रमुख ने कहा है कि इन मामलों में भी वैसे ही मुकदमे चलने चाहिये जैसे नाजी नेताओं के खिलाफ चले थे, ताकि पीड़ितों को सुना जा सके.

भाषा
Updated: July 29, 2019, 6:51 PM IST
आईएस के खिलाफ भी नाजियों की तरह चलें मुकदमे: UN
संयुक्त राष्ट्र विशेष जांच दल ने कहा कि आईएस के खिलाफ भी नाजियों की तरह मुकदमे चलें (प्रतीकात्मक तस्वीर)
भाषा
Updated: July 29, 2019, 6:51 PM IST
आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के अपराधों की जांच करने वाले संयुक्त राष्ट्र विशेष जांच दल के प्रमुख ने कहा है कि इन मामलों में भी वैसे ही मुकदमे चलने चाहिये जैसे नाजी नेताओं के खिलाफ चले थे, ताकि पीड़ितों को सुना जा सके और आईएस की विचारधारा को नष्ट किया जा सके.

ब्रिटेन के वकील करीम खान ने संयुक्त राष्ट्र के निकाय 'यूनिटेड' के लिये सबूत जुटाने और गवाही के लिये एक साल तक लगभग 80 जांचकर्ताओं के साथ इराक का दौरा किया. खान ने बताया कि यह पहाड़ पर चढ़ने जैसा था, क्योंकि जांच दल ने 200 से अधिक सामूहिक कब्रों से मिले 12 हजार शवों, आईएस के अपराधों से जुड़े 600,000 वीडियो और समूह के शासन से संबंधित 15000 पन्नों का विश्लेषण किया.

उन्होंने कहा कि किसने सोचा होगा कि 21वीं सदी में हम इंसान को सूली पर चढ़ाते, पिंजरे में डालकर जलाते, गुलाम बनाते, सेक्स गुलामी कराते, इमारतों से फेंकते या सिर कलम करते देखेंगे. उन्होंने कहा कि यह सभी कैमरे में कैद किया गया. इतने खौफनाक होने के बावजूद भी यह अपराध नये नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि आईएस के साथ नयी बात यह है कि इस समूह की विचारधारा ने भी उसके अपराधों के लिये उसी तरह ईंधन का काम किया है जैसाकि फासीवाद ने हिटलर की आपराधिक करतूतों को हवा देने के लिये किया था.

नाजी नेताओं के खिलाफ द्वितीय विश्वयुद्ध में करीब 60 लाख यहूदियों के कत्ल के इल्जाम में 1945-46 में जर्मनी के न्यूरेमबर्ग स्थित अंतरराष्ट्रीय सैन्य अदालत में मुकदमे चले थे. खान ने भी ऐसी की सुनवाई का सुझाव दिया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 6:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...