Home /News /world /

अफगान सेना में आत्मघाती हमलावरों की भर्ती, तालिबान ने कहा- सुसाइड बॉम्बर हमारी स्पेशल फोर्स का हिस्सा

अफगान सेना में आत्मघाती हमलावरों की भर्ती, तालिबान ने कहा- सुसाइड बॉम्बर हमारी स्पेशल फोर्स का हिस्सा

अफगानिस्‍तान में तालिबान का शासन. (File)

अफगानिस्‍तान में तालिबान का शासन. (File)

Taliban recruit suicide bombers in Afghan army: अफगानिस्तान में तालिबान आत्मघाती हमलावरों की भर्ती कर रहा है. तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने मंगलवार को कहा कि सुसाइड बॉम्बर से लैस यह स्पेशल बटालियन भविष्य में अफगानिस्तान आर्मी का हिस्सा होगी. खामा न्यूज के अनुसार, अफगानिस्तान के डेप्यूटी इंफॉर्मेशन एंड कल्चर मिनिस्टर जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि आत्मघाती दस्तों से तैयार यह स्पेशल फोर्स डिफेंस मिनिस्ट्री के अधीन रहेगी.

अधिक पढ़ें ...

    काबुल: अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) फौज में सुसाइड बॉम्बर यानि आत्मघाती दस्ता तैयार कर रहा है. इसके लिए आत्मघाती हमलावरों (Suicide Bomber) की भर्ती की जा रही है. तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने मंगलवार को कहा कि सुसाइड बॉम्बर से लैस यह स्पेशल बटालियन भविष्य में अफगानिस्तान आर्मी का हिस्सा होगी. खामा न्यूज के अनुसार, अफगानिस्तान के डेप्यूटी इंफॉर्मेशन एंड कल्चर मिनिस्टर जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि आत्मघाती दस्तों से तैयार यह स्पेशल फोर्स डिफेंस मिनिस्ट्री के अधीन रहेगी.

    जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि, अफगानिस्तान की सेना में आवश्यकता के आधार पर महिलाओं की भर्ती भी की जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि अफगान आर्मी के पूर्व के विशेषज्ञ भी भविष्य की सेना का हिस्सा होंगे. मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान इन सुसाइड बॉम्बर को तजाकिस्तान के साथ लगी उत्तरी सीमा पर तैनात करेगा. लेकिन खामा न्यूज ने ऐसी किसी भी खबर की पुष्टि नहीं की है.

    1 लाख सैनिकों की फौज की जाएगी तैयार
    इससे पहले अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि वे 1 लाख सैनिकों की फौज तैयार करेगा. डिफेंस मिनिस्ट्री के अनुसार, नई सेना से जुड़ी तैयारियां जारी हैं और अफगानिस्तान अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर इस फौज को तैयार करेगा. रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इनायतउल्लाह ख्वाराजमी ने कहा कि जब नए जवानों का नामांकन हो जाएगा तो उन्हें टुकड़ियों में शामिल करके उन्हें ड्यूटी पर भेजा जाएगा.

    यह भी पढ़ें: कर्ज में दबा श्रीलंका 2022 में दिवालिया होने की कगार पर, चीन बढ़ा सकता है भारत की परेशानी

    बता दें कि पिछले साल अगस्त में अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के वापस जाने के बाद तालिबान सत्ता पर काबिज हो गया है. इसके बाद से कई अफगानी नागरिकों ने मुल्क छोड़ दिया है. वहीं सत्ता में आने के बाद तालिबान ने महिलाओ और लड़कियों पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं. कई मानवाधिकार संगठनों अफगानिस्तान में महिलाओं की स्थिति और मौजूदा कानून व्यवस्था को लेकर चिंता जाहिर की है.

    अफगानिस्तान के हालात और उससे जुड़े संकट पर मुस्लिम राष्ट्रों के संगठनों की हाल ही में इस्लामाबाद में बैठक हुई थी. जिसमें महंगाई और भूखमरी से संबंधित मुद्दों पर अफगानिस्तान को आवश्यक मदद देने का भरोसा दिया गया है.

    Tags: Afghanistan, Taliban

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर