Home /News /world /

तालिबान राज में पहली बार महिलाओं के लिए खुशखबरी, शादी को लेकर दी इस बात की इजाजत, जानें

तालिबान राज में पहली बार महिलाओं के लिए खुशखबरी, शादी को लेकर दी इस बात की इजाजत, जानें

तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय दबाव में महिला अधिकार को लेकर नए आदेश जारी किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय दबाव में महिला अधिकार को लेकर नए आदेश जारी किए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Women in Taliban rule: तालिबान द्वारा जारी नया आदेश कहता है कि अब महिलाओं को प्रॉपर्टी के रूप में नहीं देखा जाएगा. साथ ही अब शादी के लिए महिलाओं की भी सहमति लेना आवश्यक होगा. हालांकि अभी महिलाओं की शिक्षा और कामकाज को लेकर कोई बात नहीं कही गई है. दरअसल अफगानिस्तान के आर्थिक हालात बिगड़ते जा रहे हैं. अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने अफगानिस्तान को मिलने वाले सभी फंड रोक दिए हैं. ऐसे में तालिबान पर लगातार ये दबाव बनाया जा रहा था कि वो महिला अधिकारों के पक्ष में सकारात्मक निर्णय ले.

अधिक पढ़ें ...

    काबुल. जबरदस्त अंतरराष्ट्रीय दबाव (International Pressure) का असर अब तालिबान शासन (Taliban Rule) पर दिखने लगा है. अब कट्टरपंथी संगठन ने अफगानिस्तान की महिलाओं के अधिकारों (Afghan Women rights) को लेकर नए आदेश जारी किए हैं. नया आदेश कहता है कि अब महिलाओं को प्रॉपर्टी के रूप में नहीं देखा जाएगा. साथ ही अब शादी के लिए महिलाओं की भी सहमति (Consent) लेना आवश्यक होगा. हालांकि अभी महिलाओं की शिक्षा और कामकाज को लेकर कोई बात नहीं कही गई है.

    दरअसल अफगानिस्तान के आर्थिक हालात बिगड़ते (Bad economic condition) जा रहे हैं. अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने अफगानिस्तान को मिलने वाले सभी फंड रोक (Fund Ceased) दिए हैं. ऐसे में तालिबान पर लगातार ये दबाव बनाया जा रहा था कि वो महिला अधिकारों के पक्ष में सकारात्मक निर्णय ले. तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा है- ‘महिलाएं प्रॉपर्टी नहीं हैं, बल्कि एक स्वतंत्र इंसान हैं.’

    अब महिलाओं पर शादी के लिए दबाव नहीं बनाया जा सकेगा
    नए नियमों के मुताबिक अब महिलाओं पर शादी के लिए दबाव नहीं (no forced marriage) बनाया जा सकेगा. साथ ही विधवा महिला (widow women) को अपने पति की संपत्ति में हिस्सा (property rights) दिया जाएगा. अब न्यायालयों को निर्णय देते वक्त नए आदेशों का खयाल रखना होगा.

    ये भी पढ़ें: इमरान खान की इंटरनेशनल बेइज्जती, पाक एम्बेसी बोली-3 महीने से सैलरी नहीं मिली, स्कूल से निकाले गए बच्चे

    तालिबान शासन आने के बाद बिगड़ते जा रहे हैं हालात
    हालांकि अभी तालिबान की तरफ से महिलाओं की शिक्षा (women education) और कामकाज  को लेकर कोई निर्णय (no decision) नहीं किया गया है. अफगानिस्तान में तालिबान का शासन आने से पहले तक महिलाओं को भी पढ़ाई और कामकाज की छूट थी. लेकिन तालिबान शासन में महिलाओं की पढ़ाई और कामकाज पर रोक लगा दी गई है. इसे लेकर देश की सड़कों पर महिलाओं ने जमकर प्रदर्शन किया था.

    स्थिति यहां तक बिगड़ गई थी कि तालिबान ने महिलाओं के लिए फरमान जारी किया था कि वे इन दिनों घरों में ही रहें. क्‍योंकि उसके कुछ लड़ाकों को महिलाओं का सम्‍मान करने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया गया है. न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स को तालिबान नेता अहमदुल्‍लाह वासेक ने कहा था कि जब तक महिलाएं हिजाब में रहेंगी तब तक उनके नौकरी करने को लेकर कोई परेशानी नहीं है. लेकिन उसका कहना था कि पर अब हम महिलाओं को तब तक घरों में रहने को कहेंगे जब तक कि हालात सामान्‍य नहीं हो जाते हैं.

    Tags: Afghanistan, Taliban

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर