• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • तालिबान ने कहा, अंतिम अमेरिकी सैनिक के जाने तक अफगानिस्तान में नहीं बनेगी कोई नई सरकार

तालिबान ने कहा, अंतिम अमेरिकी सैनिक के जाने तक अफगानिस्तान में नहीं बनेगी कोई नई सरकार

अफगानिस्तान के गजनी शहर में हथियार के साथ खड़ा एक तालिबानी फाइटर. (रॉयटर्स/14 अगस्त 2021)

अफगानिस्तान के गजनी शहर में हथियार के साथ खड़ा एक तालिबानी फाइटर. (रॉयटर्स/14 अगस्त 2021)

Taliban in Afghanistan: एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के लिए निर्धारित 31 अगस्त की समय सीमा बढ़ा सकते हैं.

  • Share this:

    काबुल. तालिबान का कहना है कि अंतिम अमेरिकी सैनिक के जाने तक अफगानिस्तान में कोई नई सरकार नहीं बनेगी. तालिबान के सूत्रों ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया है कि आखिरी अमेरिकी सैनिक के जाने तक अफगानिस्तान में किसी नई सरकार का गठन नहीं होगा. इस बीच, न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के लिए निर्धारित 31 अगस्त की समय सीमा बढ़ा सकते हैं.

    अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल अपने कार्यकाल में अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की योजना की घोषणा की थी. वहीं, अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति जो. बाइडन ने इस योजना को वास्तव में ही अंजाम दे दिया और 31 अगस्त तक अंतिम सैनिक की वापसी की समयसीमा तय कर दी है. हालांकि, अब वे इस 31 अगस्त की समय-सीमा को आगे बढ़ाने पर विचार कर रहे हैं.

    अफगानिस्तान से आ रहे हिंदुओं और सिखों को मिलनी चाहिए भारत की नागरिकता: विहिप

    गौरतलब है कि दो दशक तक चले युद्ध के बाद अमेरिका के सैनिकों की पूर्ण वापसी से दो सप्ताह पहले तालिबान ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया. विद्रोहियों ने पूरे देश में कोहराम मचा दिया और कुछ ही दिनों में सभी बड़े शहरों पर कब्जा कर लिया क्योंकि अमेरिका और इसके सहयोगियों द्वारा प्रशिक्षित अफगान सुरक्षाबलों ने घुटने टेक दिए. तालिबान का 1990 के दशक के अंत में देश पर कब्जा था और अब एक बार फिर उसका कब्जा हो गया है.

    तालिबान के समर्थन में जैश-लश्कर की PoK में रैली, खुली पाकिस्तान की पोल

    इस बीच काबुल से 120 किमी दूर उत्तर में बगलान प्रांत में स्वयं को ‘जन विद्रोह’ से जुड़ा बताने वाले लड़ाकों ने हिंदुकुश में अंदराब घाटी में तीन जिलों पर कब्जा करने का दावा किया. अन्य पंजशीर प्रांत में जमा हुए जो अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से इकलौता ऐसा प्रांत है जहां तालिबान कब्जा नहीं कर सका है.

    तालिबान के प्रवक्ता जबील्ला मुजाहिद ने कहा कि उन्होंने पंजशीर प्रांत को घेरना शुरू कर दिया है. अफगानिस्तान के उप राष्ट्रपति रहे अमरूल्ला सालेह ने ट्विटर पर लिखा कि तालिबान लड़ाके प्रांत के आसपास एकत्रित हो गए हैं. मुजाहिद ने कहा कि तालिबान की योजना पंजशीर के लोगों से बात करने की है. उन्होंने कहा, ‘अभी तक तो वहां लड़ाई नहीं हो रही. हम पंजशीर के लिए शांतिपूर्ण समाधान खोजना चाहते हैं.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन