अफगानिस्तान के दूसरे बड़े बांध पर तालिबानी आतंकवादियों ने किया कब्जा, हो सकती है ये बड़ी समस्याएं

इस बांध पर कब्जे से पेयजल और सिंचाई की समस्या हो सकती है. (फोटो साभारः Wikipedia)

इस बांध पर कब्जे से पेयजल और सिंचाई की समस्या हो सकती है. (फोटो साभारः Wikipedia)

पड़ोसी जिले के गवर्नर हाजी गुलबुद्दीन ने भी इस बात की पुष्टि की है कि बांध पर तालिबान का नियंत्रण हो गया है. हमारे सुरक्षाबलों ने और अधिक बलों की मांग की, लेकिन वे इसे पाने में असमर्थ रहे.

  • Share this:

काबुल. अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबानी हुकूमत फिर से बढ़ रही है. गुरुवार को तालिबानी आतंकवादियों (Taliban terrorist) ने अफगानिस्तान के दूसरे सबसे बड़े बांध (दाहला बांध) पर कब्जा कर लिया है. कंधार में महीनों तक संघर्ष करने के बाद तालिबानी आतंकवादियों ने बांध पर कब्जा किया है. तालिबान के प्रवक्ता कारी यूसुफ अहमदी ने बांध पर आतंकियों के कब्जे की पुष्टि करते हुए कहा है, 'हमने अरघानदाब में दाहला बांध पर कब्जा कर लिया है.'

पड़ोसी जिले के गवर्नर हाजी गुलबुद्दीन ने भी इस बात की पुष्टि की है कि बांध पर तालिबान का नियंत्रण हो गया है. हमारे सुरक्षाबलों ने और अधिक बलों की मांग की, लेकिन वे इसे पाने में असमर्थ रहे.

दाहला बांध पर कब्जे से हो सकती है पानी की समस्या

न्यूज एजेंसी एएफपी के साथ बातचीत में अधिकारियों ने कहा कि अफगानिस्तान का दाहला बांध कई नहरों के जरिए सिंचाई और प्रांतीय राजधानी को पीने का पानी उपलब्ध करता है और अब इस पर तालिबान का नियंत्रण हो गया है. उन्होंने कहा कि बांध पर अब तालिबान आंतकियों की हुकूमत चलेगी. इससे बांध पर कब्जे से पेयजल और सिंचाई की समस्या हो सकती है.







अमेरिकी सैनिकों की वापसी से पहले की है घटना

बांध पर कब्जे की यह घटना पिछले सप्ताह पड़ोस के हेलमंद प्रांत में हुई झड़पों के बाद और अमेरिकी सैनिकों की वापसी के कुछ दिन पहले हुई है. कंधार जल विभाग के प्रमुख तूरयालय माहबूबी ने कहा तालिबान ने हाल ही में दाहला कर्मचारियों को काम पर ना जाने की धमकी दी थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज