कतर ने सऊदी से तनाव के बीच की 'ओपेक' से बाहर निकलने की घोषणा

कतर की इस अचानक घोषणा से ओपेक की भूमिका फिर से संदेह के घेरे में आ गई है. यह पहला मौका है जब 1960 में ओपेक के गठन के बाद किसी पश्चिमी एशियाई देश ने इससे बाहर निकलने का निर्णय लिया है.

भाषा
Updated: December 3, 2018, 7:42 PM IST
कतर ने सऊदी से तनाव के बीच की 'ओपेक' से बाहर निकलने की घोषणा
कतर के ऊर्जा मंत्री साद-अल-काबी (File photo)
भाषा
Updated: December 3, 2018, 7:42 PM IST
कतर ने गैस उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करने और सऊदी अरब के साथ जारी तनाव के बीच उसके दबदबे को कम करने के लिए प्रमुख कच्चा तेल उत्पादक देशों के समूह ओपेक से बाहर निकलने का निर्णय लिया है. कतर के ऊर्जा मंत्री साद शरीदा अल-काबी ने सोमवार को इसकी घोषणा की.

कतर की इस अचानक घोषणा से ओपेक की भूमिका फिर से संदेह के घेरे में आ गई है. यह पहला मौका है जब 1960 में ओपेक के गठन के बाद किसी पश्चिमी एशियाई देश ने इससे बाहर निकलने का निर्णय लिया है.

अल-काबी ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘कतर ने ओपेक की सदस्यता छोड़ने का निर्णय लिया है जो जनवरी 2019 से प्रभावी होगा.’

उन्होंने कहा कि कतर आगे भी कच्चा तेल का उत्पादन जारी रखेगा लेकिन वह गैस उत्पादन पर अधिक ध्यान देने वाला है क्योंकि वह विश्व में द्रवीकृत प्राकृतिक गैस का सबसे बड़ा निर्यातक है. उन्होंने कहा कि कतर की योजना द्रवीकृत प्राकृतिक गैस का उत्पादन अभी के 7.7 करोड़ टन सालाना से बढ़ाकर 11 करोड़ टन सालाना करने की है.

उन्होंने कहा कि कतर की योजना कच्चा तेल उत्पादन को भी 78 लाख बैरल प्रतिदिन से बढ़ाकर 65 लाख बैरल करने की भी है.

अल-काबी ने एक बयान में कहा, ‘इन प्रयासों और योजनाओं के जरिये हमारा उद्देश्य दुनिया में एक भरोसेमंद ऊर्जा आपूर्तिकर्ता के रूप में कतर की स्थिति मजबूत करना है. हमें इसके कारण ही अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा परिदृश्य में कतर के योगदान व इसकी भूमिका की समीक्षा करनी पड़ी.’

ओपेक ने इस बारे में कोई त्वरित प्रतिक्रिया नहीं दी है. ओपेक के सदस्य देश उत्पादन में संभावित कटौती को लेकर इस महीने बैठक करने वाले हैं.
Loading...

कतर ओपेक में 1961 में शामिल हुआ था. ओपेक पर सऊदी अरब का दबदबा चलता है. दोनों देशों के बीच जून 2017 से संबंध खराब चल रहे हैं.
Loading...

और भी देखें

Updated: December 10, 2018 06:11 PM ISTभारत लाया जाएगा विजय माल्या, लंदन की कोर्ट ने प्रत्यर्पण को दी मंजूरी
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->