चारों तरफ से घिरा चीन! सबमरीन सौदे के बाद थाईलैंड ने बंगाल की खाड़ी नहर प्रोजेक्ट भी रद्द किया

थाईलैंड ने चीन के साथ नहर प्रोजेक्ट भी रद्द किया

थाईलैंड ने चीन के साथ नहर प्रोजेक्ट भी रद्द किया

Thailand cancels Kra Canal proposal: थाईलैंड सरकार ने सबमरीन डील के बाद अब चीन के साथ बंगाल की खाड़ी में बनने वाली नहर से सम्बंधित कांट्रेक्ट भी रद्द कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2020, 7:34 AM IST
  • Share this:
बीजिंग/बैंकाक. कोरोना वायरस (Coronavirus), भारत के साथ सीमा पर तनाव (India-China Border Dispute), साउथ चाइना सी (South china sea) में टेंशन और अमेरिका से ख़राब रिश्तों के चलते चीन (China) अपने दोस्तों को हर दिन गंवाता जा रहा है. चीन के करीबी देशों में रहे थाईलैंड (Thailand) ने भी उससे किनारा करना शुरू कर दिया है. पहले चीन के साथ सबमरीन डील को अनिश्चितकालीन के लिए स्थगित करने के बाद अब थाईलैंड ने बंगाल की खाड़ी में नहर ( Kra Canal proposal) बनाने का कॉन्ट्रैक्ट भी चीनी कंपनियों को देने से इनकार कर दिया है.

स्ट्रेट टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में नहर वाले प्रोजेक्ट को अचानक थाईलैंड सरकार ने खुद पूरा करने की घोषणा की है. थाईलैंड सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि छोटे पड़ोसी देशों के हितों के मद्देनजर ये फैसला लिया गया है. इसमें कहा गया है कि म्यांमार और कम्बोडिया की सीमाएं चीन से मिलती हैं. थाईलैंड सरकार को लगता है कि चीन नहर के जरिए इन दोनों के हितों को प्रभावित कर सकता है.

थाईलैंड के इस फैसले के बाद ये स्पष्ट नज़र आ रहा है कि दक्षिण चीन सागर चीन के उग्र रवैये के बाद सभी देश उससे किनारा कर रहे हैं. ट्रेड के लिहाज से पहले चीन बंगाल की खाड़ी में एक नहर बनाने वाला था. हालांकि अब थाई सरकार ने इसका कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर दिया गया है. थाई सरकार अब इसे खुद बनाएगी. यह नहर 120 किलोमीटर लंबी होगी.



सबमरीन डील भी की है स्थगित
इससे पहले थाईलैंड ने 2017 में हुई सबमरीन डील टाल दी थी. बता दें कि साल 2015 में थाईलैंड और चीन के बीच नेवल हार्डवेयर और इक्युपमेंट्स की खरीद पर बातचीत शुरू हुई. 2017 में थाईलैंड ने 3 सबमरीन खरीदने का सौदा किया. चीन की तरफ से पहली सबमरीन की डिलीवरी 2023 में होनी थी. हालांकि थाईलैंड में इस सौदे के खिलाफ जनता प्रदर्शन कर रही थी और बीते दिनों थाई सरकार ने इसे अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया. प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि देश पहले ही आर्थिक संकट में है ऐसे में सबमरीन खरीदना सही नहीं है. जानकारी के मुताबिक सबमरीन डील 72.4 करोड़ डॉलर की थी और इसके स्थगित होने से चीन को बड़ा झटका लगा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज