ब्रिटिश पीएम ने बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की, कहा- बच्चों का हो रहा नुकसान

ब्रिटिश पीएम ने बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की, कहा- बच्चों का हो रहा नुकसान
ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) ने पांच महीने के बाद अभिभावकों से बच्चों को स्कूल (School) भेजने की अपील की. उन्होंने कहा कि बच्चों को स्कूल नहीं भेजना कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2020, 4:35 PM IST
  • Share this:
लंदन. ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने सोमवार को अभिभावकों से सीधे अपील करते हुए कहा कि कोविड-19 (Covid-19) के कारण लंबे लॉकडाउन (Lockdown) के बाद बच्चों को फिर से स्कूल भेजना बेहद जरूरी है क्योंकि बच्चों को कक्षाओं से दूर रखना खतरनाक वायरस के मुकाबले ज्यादा नुकसानदेह होगा. उनकी यह अपील ऐसे वक्त आई है जब देश के अलग अलग हिस्सों में ग्रीष्मावकाश के बाद स्कूल का नया सत्र शुरू होने को लेकर तैयारी चल रही है. स्कॉटलैंड और उत्तरी आयरलैंड इस दिशा में अग्रणी हैं और उसके बाद अगले हफ्ते इंग्लैंड और वेल्स में भी स्कूल खुल रहे हैं.

बच्चों के लिए खतरनाक वायरस का खतरा कम: पीएम

जॉनसन ने इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी और ब्रिटेन के अन्य हिस्सों में उनके समकक्षों द्वारा जारी एक संयुक्त बयान को रेखांकित करते हुए कहा कि बच्चों को खतरनाक वायरस का खतरा बेहद कम है और कक्षाओं से उनकों और ज्यादा समय तक दूर रखने से उनकी कुशलता पर कहीं ज्यादा दुष्प्रभाव पड़ेगा.



'स्कूल में कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा कम'
जॉनसन ने डाउनिंग स्ट्रीट से जारी एक बयान में कहा, “जैसा कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा है, स्कूल में कोविड-19 से ग्रसित होने का खतरा बहुत कम है और बच्चों को स्कूल से और लंबे वक्त तक दूर रखना उनके विकास, कुशलता और स्वास्थ्य के लिये कहीं ज्यादा नुकसानदायक है.”

ये भी पढ़ें: मार्को और लॉरा तूफान के चलते क्यूबा में 10 मरे, यहां 10 लाख घरों में छाया अंधेरा 

जापान के पीएम अस्पताल में दोबारा भर्ती, क्रॉनिक बीमारी से जूझ रहे हैं आबे!

मार्को और लॉरा तूफान के चलते क्यूबा में 10 मरे, यहां 10 लाख घरों में छाया अंधेरा  

कोविड-19 से खुद उबर चुके जॉनसन ने कहा कि इसलिये यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने बच्चों को वापस सीखने और दोस्तों के साथ रहने के लिये स्कूल भेजें. स्कूल भेजने से हमारे बच्चों की जिंदगी में जो बदलाव आएगा, उससे बड़ा प्रभाव और कुछ नहीं होगा. देश में संक्रमण फैलने के बाद से पांच माह से स्कूल बंद हैं और अगले महीने से सभी स्कूल खोलने की योजना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज