वो देश जहां हजारों घोड़ों को गोली मारने की अनुमति दे दी गई, जानिए क्‍या है मामला

वो देश जहां हजारों घोड़ों को गोली मारने की अनुमति दे दी गई, जानिए क्‍या है मामला
ऑस्ट्रेलिया में हजारों जंगली घोड़ों को गोली मारने का फैसला किया गया है. फाइल फोटो

किसान का कहना है कि इन जानवरों को नहीं मारा जाना चाहिए. वह इससे पहले कई जानवरों की जान बचा चुके हैं और वह 150 घोड़ों की ज़िम्मेदारी लेने के लिए तैयार हैं. वहीं पार्क विक्टोरिया के प्रबंधन का कहना है कि वहां 5 हजार ऐसे जंगली घोड़े हैं, जिनसे खतरा है और उन्हें मारा जाना जरूरी हो गया है.

  • Share this:
सिडनी. ऑस्ट्रेलिया (Australia) में हजारों जंगली घोड़ों को गोली मारने का फैसला किया गया है. वहीं सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी इसकी पुष्टि की है. 'डेली मेल' की एक रिपोर्ट के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के एक किसान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. इसमें अपील की गई थी कि विक्टोरियन हाइलैंड्स में जंगली घोड़ों के नरसंहार के फैसले पर रोक लगाई जाए.

मामले की सुनवाई जस्टिस स्टीवन मूर ने की. शुक्रवार को इस मामले की सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा कि पार्क विक्टोरिया के पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले जानवरों को मारने के लिए समुदाय के साथ परामर्श करने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक कार्य योजना तैयार की गई थी और अब सब इसी योजना के मुताबिक हो रहा है. दूसरी ओर किसान फिलिप मैगोर ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील दायर करने की घोषणा की है. उन्होंने आरोप लगाया कि पार्क प्रशासन ने जानवरों को मारने की अपनी नीति बदल दी है और इस संबंध में लोगों को कोई जानकारी नहीं दी गई है.

इससे पहले सैकड़ों ऊंटों को भी मारा गया था
उनका कहना है कि इन जानवरों को नहीं मारा जाना चाहिए. वह इससे पहले कई जानवरों की जान बचा चुके हैं और वह 150 घोड़ों की ज़िम्मेदारी लेने के लिए तैयार हैं. वहीं पार्क विक्टोरिया के प्रबंधन का कहना है कि वहां 5 हजार ऐसे जंगली घोड़े हैं, जिनसे खतरा है और उन्हें मारा जाना जरूरी हो गया है. गौरतलब है कि इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई वन विभाग ने भी सैकड़ों ऊंटों को भी नुक्‍सान पहुंचाने वाला करार देकर मार दिया था.
ये भी पढ़ें - रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासा : कोरोना कर देगा आधे पाकिस्तान को बेरोजगार



               कोविड-19 : सऊदी अरब में घरेलू हिंसा में वृद्धि, 30 फीसदी बढ़े तलाक के मामले

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading