लाइव टीवी

फाइनेंशियल टाइम्स की पहली महिला संपादक बनीं रौला ख़लाफ़

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 12:39 PM IST
फाइनेंशियल टाइम्स की पहली महिला संपादक बनीं रौला ख़लाफ़
फाइनेंशियल टाइम्स की पहली महिला संपादक (ट्विटर फोटो)

रौला ख़लाफ़ (Roula khalaf), लिओनेल बारबर (Lionel Barber) की जगह लेंगी, जो करीब 15 साल संपादक रहने के बाद पद मुक्त हो रहे हैं. रौला एफटी की पहली महिला संपादक हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 12:39 PM IST
  • Share this:
लंदन. फाइनेंशियल टाइम्स (Financial Times) की संपादक पहली बार कोई महिला होगी. अभी तक के इतिहास में ऐसा पहली बार होने जा रहा है. फाइनेंशियल टाइम्स ने मंगलवार को घोषणा की कि रौला ख़लाफ़ अगले साल से अखबार के संपादक का पद संभालेंगी. रोला ख़लाफ़ (Roula Khalaf) अभी वर्तमान में फाइनेंशियल टाइम्स की उप संपादक हैं. वह संपादक के पद पर पहुंचने वाली पहली महिला होंगी. रौला, लिओनेल बारबर (Lionel Barber) की जगह लेंगी, जो करीब 15 साल संपादक रहने के बाद पद मुक्त हो रहे हैं.

ऐसे शुरू हुआ टाइम्स का सफर
रौला 1995 में फाइनेंशियल टाइम्स से उत्तरी अफ्रीका की संवाददाता के तौर पर जुड़ीं थी. विदेश मामलों की संपादक बनने से पहले उन्होंने अरब देशों में 2011 में शुरु हुई क्रांति के कवरेज का पूरा जिम्मा उठाया था. ख़लाफ़ 24 वर्षों से इस फिल्ड में काम कर रही हैं और 2016 से एफटी के उप संपादक के पद पर कार्यरत हैं.

ख़लाफ़ ने कहा, सम्मान की बात

ख़लाफ़ ने एक बयान में कहा, 'एफटी (FT) का संपादक नियुक्त किया जाना एक बड़ा सम्मान है. मैं लियोनेल बार्बर की असाधारण उपलब्धियों को आगे बढ़ाने लिए उत्सुक हूं और सालों से उनकी दी गई सलाह के लिए आभारी हूं. बार्बर ने समाचार पत्रों के बढ़ते कॉम्पिटीशन के जमाने में एफटी का नेतृत्व किया और उसे आगे ले गये. पाठक प्रिंट को छोड़ ऑनलाइन की तरफ चले गए, ऐसे में उन्होंने इसे संभाला. मुझे बहुत खुशी है और मैं बहुत उत्साहित हूं.'

बार्बर ने ख़लाफ़ के लिए कहा
बार्बर ने एक बयान में कहा कि यह एक दुर्लभ विशेषाधिकार है और पत्रकारिता के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ पद प्राप्त करना खुशी की बात है. एफटी ने जल्द ही खलाफ को अपना नया संपादक नामित किया.निक्केई (Nikkei) के चेयरमैन सूनेओ किता (Tsuneo Kita) ने एक बयान में कहा कि बार्बर ने एफटी को नया रूप दिया और समाचार पत्रों को अपना अभूतपूर्व सहयोग दिया. जनवरी में खलाफ को बागडोर सौंपने के बाद बार्बर ब्रिटेन के आम चुनाव में संपादक बने रहेंगे.

ये भी पढ़ें : कैंब्रिज ने भारतीय शोधार्थी को स्थायी निवास देने से किया मना, बवाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 12:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर